नन्हें किसान ने अपनी प्रतिभा का मनवाया लोहा, देख लोग दे रहे हैं शाबाशी

नन्हें किसान ने अपनी प्रतिभा का मनवाया लोहा, देख लोग दे रहे हैं शाबाशी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देख आप हैरान हो जाएंगे। यह वीडियो " मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरे मोती, मेरे देश की धरती" गाने के मुखड़े को सच साबित करता है। इस वीडियो में नन्हें किसान की मेहनत देखने लायक है। सोशल मीडिया पर लोग नन्हें किसान की जमकर तारीफ कर रहे हैं। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि एक नन्हा किसान पिता की मौजूदगी में खेत में हल चला रहा है।

बरसात के दिनों में खेत की बुआई देशभर में जारी है। इसके लिए खेत में हल चलाकर खेत को तैयार किया जाता है। हर साल की तरह इस बार भी धान की खेती की जा रही है। किसान दिल लगाकर धान की खेती करने में जुटे हैं। इस क्रम में देखा जा रहा है कि एक नन्हा किसान अपने पिता के साथ खेत पर आया है और वह पिता से खेती सीख रहा है।


तभी किसान के लिए घर से जलपान आता है। यह देख किसान हल और बैल को खेत की पगडंडी के समीप खड़ाकर जलपान करने लगता है। उस समय नन्हा किसान खेत में घुस जाता है और पिता की अनुमति लेकर हल चलाने लगता है। यह दृश्य देखने लायक है। नन्हा किसान बड़ी बहादुरी से हल चलाता दिख रहा है। बैलों को भी खबर हो जाती है कि किसान बदल चुका है, तो बैल भी अपनी गति बढ़ा देता है। फिर तो दृश्य देखने लायक रहता है। नन्हा किसान खेत में ही तैरने लगता है। इसके बावजूद नन्हा किसान हल नहीं छोड़ता है।

इस वीडियो को भारतीय सेवा अधिकारी Rupin Sharma IPS ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से शेयर किया है। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा है- अन्नदाता। इस वीडियो को खबर लिखे जाने तक तकरीबन 4 हजार बार देखा गया है। वहीं, कुछ लोगों ने पसंद और कंमेटस किए हैं। एक यूजर हरीश ने लिखा है-अब मैं चक्कर में पड़ गया इसे असली किसान मानूं या किसान आंदोलन में पचास-पचास लाख के ट्रैक्टर में बैठकर काजू-बादाम खाने वालों को।


इस मंदिर में बोलती हैं मूर्तियां, रात में आती है बात करने की आवाज

इस मंदिर में बोलती हैं मूर्तियां, रात में आती है बात करने की आवाज

भारतवर्ष में ऐसे कई मंदिर हैं जो अपनी रहस्यमयी कारणों से चर्चा में है और दूर-दूर तक प्रसिद्ध है। आज हम आपको बताएँगे एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां की मूर्तियां साक्षात इंसानों की तरह बातें करती हैं। इस मंदिर परिसर में किसी के भी नहीं होने पर शब्द गूंजते रहते हैं।

मंदिर में बोलती हैं मूर्तियां

तंत्र साधना के लिए प्रसिद्ध बिहार के इकलौते राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मंदिर में साधकों की हर मनोकामना पूरी होती है। इस मंदिर की सबसे अनोखी मान्यता यह है कि निस्तब्ध निशा में यहां स्थापित मूर्तियों से बोलने की आवाजें आती हैं।

रात में आती है आवाज

मध्य-रात्रि में जब लोग यहां से गुजरते हैं तो उन्हें आवाजें सुनाई पड़ती हैं। मंदिर के इस बात की पुष्टि भी करते हैं। नगर के कई लोगों ने भी रात में मंदिर से बुदबुदाने की आवाज सुनने की बात कही है। ऐसा लगता है मानो मूर्तियां आपस में बातें करती हैं। इस बात को जांचने के लिए वैज्ञानिकों के एक दल ने वहां रिसर्च किया, जिसमें यह निकलकर आया कि वहां कोई भी नहीं होने पर शब्द गूंजते रहते हैं।