दावत-ए-इस्लामी से जुड़े मदरसों और मस्जिद में आने वालों पर नजर, कानपुर के मरकज की तलाश

दावत-ए-इस्लामी से जुड़े मदरसों और मस्जिद में आने वालों पर नजर, कानपुर के मरकज की तलाश

यूपी एटीएस कन्हैया लाल की गर्दन काटने वाले गौस मोहम्मद और रियाज के उत्तर प्रदेश कनेक्शन को खंगाल रही है.

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया की गर्दन काटने वाले आतंकवादियों के उत्तर प्रदेश कनेक्शन की बात सामने आई है. इसके बाद उत्तर प्रदेश में सुरक्षा एजेंसियां एक्टिव मोड पर आ गई है. एनआईए और एटीएस आतंकवादी गौस मोहम्मद और रियाज के दावत-ए-इस्लामी से जुड़े होने के बाद अपने-अपने ढंग से उनके उत्तर प्रदेश में फैले नेटवर्क को खंगाल रही है. सूत्रों के अनुसार सुरक्षा एजेंसी दावत-ए-इस्लामी संगठन के फॉलोअर और कट्टरपंथी मैसेज करने वालों पर नजर बनाए है. इसके लिए एक स्पेशल सर्विलांस टीम को लगाया गया है.

दावत-ए-इस्लामी से जुड़े मदरसों और मस्जिद में आने वालों पर नजर, कानपुर के मरकज की तलाश
एटीएस सूत्रों के अनुसार उदयपुर की घटना में उत्तर प्रदेश कनेक्शन की जानकारी होते ही एटीएस एक्टिव हो गई. एक टीम राजस्थान रवाना हो गई है. जिले की इकाइयों को इससे जुड़े लोगों का ब्यौरा जुटाने को बोला है.

कानपुर और उन्नाव में इससे जुड़े लोगों के संबंध में जानकारी हुई है. दावत-ए-इस्लामी से जुड़े कानपुर के मरकज और उसके फॉलोअर की तलाश में टीम लगी है. जिससे संगठन से जुड़ी जानकारी मिल सके.

क्रिमिनल रिकॉर्ड न होने से खोजने में हो रही दिक्कत, स्लीपिंग मॉड्यूल के तौर पर करते हैं काम
यूपी में कानपुर, उन्नाव, गाजीपुर, आजमगढ़, देवबंद, बरेली और मुरादाबाद में दावत-ए-इस्लामी संगठन एक्टिव है. इस संगठन के लोगों के अपराधी रिकॉर्ड न होने से पुलिस की नजर से बचे रहते हैं.
सूत्रों के अनुसार यह संगठन धर्म के प्रचार प्रसार की आड़ में कट्टरपंथ की पाठशाला चला रहा है. इसके स्लीपिंग मॉड्यूल आसपास के जिलों के युवओं का ब्रेन वॉश करके उन्हें कट्टर पंथ की ओर ले जा रहे हैं.

यूपी में कानपुर को बना हुआ है सेंटर, एटीएस और एनआई अलर्ट
सूत्रों के अनुसार कानपुर में तीन मस्जिदों में दावत-ए-इस्लामी का मरकज रहा है. उन्हीं में से एक के मरकज सरताज की एनआईए तलाश कर ही है. बताया जा रहा है कि तलाक महल निवासी सरताज का जिसका गौस से सीधा संपर्क था.
संगठन का डिप्टी का पड़ाव के गुरबत उल्लाह पार्क के पास ऑफिस है और चकेरी में मदरसा बना रहे हैं. जहां के आने जाने वालों का खुफिया ब्यौरा जुटा रही है.
टीम को संगठन से जुड़े चार मदरसों की जानकारी मिली है. इनमें से एक कानपुर और तीन उन्नाव में हैं. जिसमें उन्नाव का एक मदरसा अभी बन रहा है.

उदयपुर की घटना के समर्थक और विरोधियों पर एटीएस की नजर

यूपी एटीएस राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल की मर्डर से जुड़े हर बिंदु पर पड़ताल कर रही है. वह उत्तर प्रदेश से जुड़े हर सोशल मीडिया कंमेंट पर नजर रख रही है. गाजीपुर के यूट्यूबर ब्रजभूषण दूबे को मिली सर कलम करने की धमकी हो या छपरौली के युसुफ जैसे लोगों द्वारा घटना का समर्थन करने वाले, सभी पर नजर रखे है. उत्तर प्रदेश की सुरक्षा एजेंसी की टेक्निकल टीम लगातार सोशल मीडिया पर नजर रखे हुए. जिसके इनपुट पर सुरक्षा एजेंसियां आतंकवादी गतिविधि से जुड़े लोगों की धरपकड़ में जुट गई है.