कोविड-19 वायरस टीकाकरण में तेजी, 11 और जिलों में वैक्सीनेशन शुरू

कोविड-19 वायरस टीकाकरण में तेजी, 11 और जिलों में वैक्सीनेशन शुरू

कोविड-19 वायरस संक्रमण के खात्मे के लिए उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी और उनकी टीम-9 मुस्तैदी से काम कर रही है. सोमवार से अब उत्तर प्रदेश के 18 जिलों के 362 केंद्रों में 18+ आयु वालों का वैक्सीनेशन प्रारम्भ हो गया है. यह अभियान 1 मई से 7 जिलों में प्रारम्भ हो गया था. टीकाकरण अभियान का उद्घाटन करने के साथ ही गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड के विनाश के लिए रुद्राभिषेक और अनुष्ठान किया. वैक्सीनेशन अभियान में कोई बाधा न हो इसलिए मुख्यमंत्री योगी ने वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया है. अब सावधान हो जाएं वैक्सीनेशन 100 फीसद आनलाइन कर दिया गया है. यदि आनलाइन बुकि‍ंग नहीं होगी तो वैक्सीनेशन भी नहीं होगा.

11 नए जिले में टीकाकरण :- टीकाकरण अभियान में सोमवार को 11 नए जिले आगरा, अलीगढ़, अयोध्या, फिरोजाबाद, गाजियाबाद, झांसी, मथुरा, मुरादाबाद, सहारनपुर, शाहजहांपुर और गौतमबुद्ध नगर शामिल किए गए है. जबकि लखनऊ, कानपुर नगर, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर, मेरठ और बरेली में वैक्सीनेशन 1 मई से जारी है. 45+ आयु के व्यक्तियों का टीकाकरण पूरे प्रदेश में जारी है.

15 मिनट 15 मई तक स्लाट फुल :- सोमवार से प्रारम्भ होने वाले वैक्सीनेशन के लिए रविवार को आनलाइन रजिस्ट्रेशन किया गया. केवल 15 मिनट 15 मई तक के सभी स्लाट फुल हो गए. लखनऊ जिला प्रतिरक्षण ऑफिसर डा एमके सि‍ंह ने बताया कि प्रतिदिन 18 साल से अधिक आयुवर्ग के केवल 4000 लोगों को वैक्सीनेशन स्लाट दिया गया है. 15 मई तक यह स्लाट फुल हो चुका है. अब इसके बाद वैक्सीन आने पर स्लाट दोबारा खोला जाएगा. इस बार कोविशील्ड की डोज लगाई जाएगी. निजी केंद्रों पर वैक्सीनेशन नहीं हो रहा है.

सीएम योगी कर रहे कोविड-19 कार्यक्रमों की समीक्षा :- उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ कोविड-19 वायरस संक्रमण से प्रभावित मरीजों की स्वास्थ्य व्यवस्था को परखने के लिए जमीन उतर आए हैं. मुरादाबाद, बरेली मंडल, वाराणसी में कोविड-19 वायरस खात्मे के लिए किये जा रहे इंतजामों की समीक्षा के बाद गोरखपुर और फिर आज अयोध्या में मुख्यमंत्री योगी ने विकास भवन में कोविड कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया. कोविड से जुड़े हॉस्पिटल ों के साथ मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं का भी निरीक्षण किया.

10 मई को सक्रिय केस 2,25,000 रह गए : मुख्यमंत्री योगी

गोरखपुर-बस्ती मंडल में कोविड-19 से बचाव को लेकर अपनाए जा रहे तरीकों की समीक्षा करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहाकि, कोविड-19 के विरूद्ध वैक्सिनेशन सबसे बड़ा अस्त्र है. इस महामारी में यही सुरक्षा कवच है. कहीं भी टीके की कमी नहीं होने दी जाएगी. सीएम ने कहाकि, पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर अधिक खतरनाक है इसकी गति भी कई गुना अधिक है. प्रदेश में ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के फार्मूले पर अभियान चलाया जा रहा है. पिछले 10 दिनों में ही 85 हजार से अधिक सक्रिय केस कम हुए हैं, उत्तर प्रदेश में 30 अप्रैल को जहां सक्रिय केस की संख्या तीन लाख 10 हजार थी वही 10 मई को सक्रिय केस 2,25,000 रह गए.


इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस वर्ष नहीं बढ़ेगी फीस, योगी सरकार का बड़ा फैसला

इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस वर्ष नहीं बढ़ेगी फीस, योगी सरकार का बड़ा फैसला

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने छात्र हित में प्रदेश के सभी इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस साल फीस में बढ़ोतरी नहीं करने का एक बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों और पॉलिटेक्निक संस्थानों में शैक्षिक सत्र 2021-22 में फीस नहीं बढ़ाई जाएगी। इस बड़े फैसले से एकेटीयू से लगभग 750 इंजीनियरिंग कॉलेज और प्राविधिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश से संबद्ध निजी क्षेत्र के 1247 डिप्लोमा स्तरीय और 19 अनुदानित संस्थाओ में पढ़ने वाले छात्र छात्रओ को इसका लाभ मिलेगा।

सचिव (प्राविधिक शिक्षा) आलोक कुमार ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए इस बार फीस बढ़ोतरी नहीं की जाएगी। जो फीस पिछले शैक्षिक सत्र 2020-21 में निर्धारित की गई थी, वही इस साल भी ली जाएगी। प्राविधिक शिक्षा विभाग के इस फैसले से करीब चार लाख विद्यार्थियों को बड़ी राहत मिल गई है।


उत्तर प्रदेश के 750 इंजीनियरिंग कॉलेजों में अलग-अलग 60 हजार रुपये से लेकर 1.20 लाख रुपये वार्षिक फीस है। वहीं 1,371 पॉलिटेक्निक संस्थानों में 10 हजार रुपये से लेकर 45 हजार रुपये तक सरकारी व निजी पॉलिटेक्निक संस्थानों की फीस निर्धारित है। सभी इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक संस्थानों को निर्देश दिए गए हैं कि वह पिछले वर्ष तय की गई फीस ही इस सत्र में भी लें। अगर कोई संस्थान इससे अधिक फीस वसूलेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


प्राविधिक शिक्षा विभाग के सचिव आलोक कुमार ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। प्रदेश में 1247 पॉलिटेक्निक कॉलेज व 750 इंजीनियरिंग कॉलेज हैं और 17 अनुदानित संस्थाओं के विद्यार्थियों को इसका लाभ मिलेगा। पिछले वर्ष भी कोरोना संक्रमण के कारण फीस वृद्धि पर रोक लगाई थी। इसे चालू शैक्षिक सत्र में भी जारी रखा जाएगा। इस सत्र में फीस 2020-21 के सत्र की ही मान्य होगी।


Sidharth Malhotra की तस्वीर पर अभिनेत्री कियारा आडवाणी ने किया रिएक्ट, लिखा...       टीएमसी एमपी-एक्ट्रेस नुसरत जहां ने प्रेग्नेंसी की ख़बरों के बाद पहली बार शेयर की फोटो, लिखा...       Shilpa Shetty के पति राज कुंद्रा ने शेयर किया ‘मनी हाइस्ट’ का पंजाबी वर्जन       Sridevi की बेटी जाह्नवी कपूर की बिकिनी तस्वीरें इंटरनेट पर हुईं वायरल       Salman Khan के साथ वीर की शूटिंग करते वक्त ऐसा हो गया था जरीन खान का हाल       विक्की कौशल, रणवीर सिंह या रणबीर कपूर? जानें       बुजुर्ग के साथ बदसलूकी की घटना पर स्वरा भास्कर को बोलना पड़ा भारी, ट्रोलर्स बोले...       विराट-अनुष्का के रास्ते पर बढ़े केएल राहुल और अथिया शेट्टी       पासपोर्ट रिन्यू न होने को लेकर महाराष्ट्र सरकार पर फूटा कंगना रनोट का गुस्सा       पासपोर्ट विवाद के बीच कंगना रनोट को आई फिल्म की याद, कहा...       Govinda ने पत्नी सुनीता आहूजा का खास अंदाज में मनाया 50वां जन्मदिन       Sonu Sood की बढ़ी मुश्किलें, कोरोना की दवाई को लेकर मुंबई उच्च न्यायालय ने दिए जांच के आदेश       Akshay Kumar और ट्विंकल खन्ना की शादी की 20 वर्ष बाद तस्वीरें हुईं लीक       Rakhi Sawant ने लगवाई कोरोना वैक्सीन की पहली डोजी       बेहतरीन एक्टर के साथ कामयाब बिज़नेसमैन, इतने करोड़ की संपत्ति के मालिक़ हैं डिस्को डांसर       म्यांमार के काया क्षेत्र में युद्ध विराम, संयुक्त राष्ट्र ने किया हस्तक्षेप, करीब एक लाख लोगों को पहुंचा था नुकसान       ट्रान्स अटलांटिक संबंधों के नवीनीकरण में यूरोपीय संघ के व्यापार युद्ध को समाप्त करने की हुई कोशिश       दुनियाभर में मशहूर फर्नीचर ब्रांड पर कोर्ट ने लगाया जुर्माना       अमेरिका व ईयू के बीच सालों पुराना व्यापारिक विवाद खत्म, पुतिन से मुलाकात से पहले बाइडन का पक्ष मजबूत!       मध्य नेपाल में बाढ़ के कहर से एक की मौत, कई लोगों के लापता होने की आशंका