कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते यूपी में फिर लगा 55 घण्टे का लॉकडाउन

कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते यूपी में फिर लगा 55 घण्टे का लॉकडाउन

नयी दिल्ली: देश भर में लगातार बढ़ता जा रहा बीमारियों के साथ मृत्यु का आंकड़ा लोगों के लिए बड़ी कठिनाई बनता जा रहा है। हर दिन इस वायरस की चपेट में आने से लगातार मौते हो रही है। जंहा कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बीते शुक्रवार की रात से बाजार, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, सरकारी कार्यालय ों में आवागमन व बंदी को लेकर नियम कई गुना बढ़ा दिए गए है। जंहा इस बात का पता चला है कि 11 एवं 12 जुलाई को सारे धार्मिक स्थल और सभी क्षेत्रों में औद्योगिक कारखानों को खुले रखने की छूट दी जा चुकी है। वहीं इस बात को ध्यान में रखते हुए कई गाइड लाइन जारी किए जा चुके है। देश की सरकार ने कोरोना वायरस व इन्सेफेलाइटिस, मलेरिया, डेगू और कालाजार जैसे संचारी रोगों का से फैलने का भय लगातार बढ़ता जा रहा है। जंहा 10 से 12 जुलाई तक स्वच्छता अभियान चलाने तथा शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार प्रातः काल पांच बजे तक सरकारी कार्यालय ों, शहरी और ग्रामीण हाटों, बाजारों और गल्ला मंडियों तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को सख्ती से बंद करने की घोषणा कर दी है। जरुरी प्रोग्राम तथा रेल और हवाई सेवाओं पर से रोक हटा दी गई है। बीते शुक्रवार प्रातः काल से प्रदेश भर में स्वच्छता संबंधी अभियान प्रारम्भ कर दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार सांय को बंदी संबंधी आदेश लागू होने से पहले सरकार की ओर से दो नए आदेश दिए जा चुके है। प्रथम आदेश मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने जारी किया . जिसमे ग्रामीण क्षेत्रों की तरह शहरी क्षेत्रों में भी समस्त औद्योगिक कारखानों को बंद नहीं किया जाएगा। नए आदेश के बाद सारे प्रदेश में समस्त औद्योगिक कारखाने खुले रहेंगे व सोशल डिस्टेंसिंग और स्वास्थ्य संबंधी अन्य प्रतिबंधों का सख्ती से नियमों का पालन किया जाना चाहिए।

जंहा इस वायरस से लड़ने के किए हेल्प डेस्क का कार्य करेगी। द्वितीय आदेश अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से जारी किया गया है। जिसमे अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रदेश के सभी धार्मिक स्थलों को 11 और 12 जुलाई को खुले रखने के आदेश जायरीन किए है। जंहा यह भी बोला जा रहा है कि सरकार के बंदी सबंधी आदेश का रात दस बजे से पालन प्रारम्भ कर दिया गया। सरकार ने शनिचर और रविवार को लॉक डाउन के आदेशों का सख्ती से पालन कराने की व्यवस्था की है। जिसके अलावा अपर मुख्य सचिव नियोजन ने स्वच्छता की इस विशेष मुहिम को पास बनाने के लिए जिलों में नामित नोडल अधिकारियों को रोजाना शाम 5 बजे तक सारे दिन की निरीक्षण रिपोर्ट उपलब्ध कराने का आदेश जारी किया।