"देश में किसानों की गंभीर हालत के लिये कांग्रेस पार्टी के लोग जिम्‍मेदार हैं" : राजनाथ सिंह

"देश में किसानों की गंभीर हालत के लिये कांग्रेस पार्टी के लोग जिम्‍मेदार हैं" : राजनाथ सिंह

गुरुवार को संसद के बजट सत्र के दौरान कांग्रेस पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में किसानों की आत्‍महत्‍या का मुद्दा उठाया है। इस दौरान राहुल ने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकारपर कई आरोप लगाए। राहुल गांधी के बयान पर सदन के उपनेता राजनाथ सिंह ने बोला कि इसके लिए वे लोग जिम्‍मेदार हैं, जो लोग देश में लंबे समय तक काबिज रहे। राजनाथ का संकेत कांग्रेस पार्टी सरकार की ओर था। आइए जानते है पूरी जानकारी विस्तार से

अपने बयान में राहुल गांधी ने लोकसभा में बोला कि देश में किसानों की हालत बेहद गंभीर है। मेरे संसदीय क्षेत्र वायनाड में किसान आत्महत्या कर रहे हैं। यहां 8 हजार किसानों को बैंक कर्ज़ न चुकाने पर नोटिस भेजा गया है। केरल में 18 किसानों ने आत्महत्या की, क्योंकि वह बैंकों का कर्ज़ नहीं चुका पाए थे। बीते पांच वर्ष में सरकार ने किसानों को कम पैसा दिया, जबकि धनी उद्योगपतियों को ज्यादा पैसा दिया है। कांग्रेस पार्टी अध्‍यक्ष ने बोला कि हम ये जानना चाहते हैं कि किसानों के साथ ये दोहरा रवैया क्यों? सरकार के लिए किसान अमीरों से ज्यादा महत्वपूर्ण क्यों नहीं है? राहुल गांधी ने सरकार से मांग करते हुए बोला कि वह रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को आदेश दे व किसानों को धमकाना बंद किया जाए। उन्होंने बोला कि देश में किसानों की हालत बहुत बेकार है व सरकार को इसके लिए कदम उठाने चाहिए।

प्राप्त जानकारी के ​अनुसार राहुल गांधी के आरोपों पर राजनाथ सिंह ने बोला कि देश में किसानों की जिस दयनीय स्थिति का जिक्र राहुल गांधी कर रहे हैं, ये बहुत ज्यादा लंबे समय से चली आ रही है। ये स्थिति पिछले 4-5 वर्षों में उत्‍पन्‍न नहीं हुई है। देश में जो लोग लंबे समय तक सत्‍ता पर काबिज रहे हैं, वे इसके लिए जिम्‍मेदार हैं। नरेन्द्र मोदी सरकार के गठन के बाद किसानों की आय को दोगुना करने की दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। नरेन्द्र मोदी सरकार ने जितना मिनिमम सपोर्ट प्राइज (एमएसपी) बढाया है, उतना आजतक किसी भी सरकार ने नहीं बढ़ाया है। इसके साथ ही किसानों को 6 हजार रूपये देने की योजना हमारी सरकार ने लागू की है व इससे उनकी आय में वृद्धि भी हुई है। किसानों ने सबसे ज्यादा आत्महत्या इससे पहले की सरकारों में की हैं व यह बात में दावे के साथ कह सकता हूं।