हॉन्ग कॉन्ग: नए प्रत्यर्पण कानून के विरोध में सड़कों पर प्रदर्शन करने के लिये उतरे हजारों लोग

हॉन्ग कॉन्ग: नए प्रत्यर्पण कानून के विरोध में सड़कों पर प्रदर्शन करने के लिये उतरे हजारों लोग

चीन में प्रत्यर्पण को अनुमति देने वाली सरकार की योजनाओं के विरूद्ध मध्य हॉन्ग कॉन्ग में हजारों प्रदर्शनकारियों ने विरोध किया व 2 मुख्य राजमार्गों को बाधित कर दिया. हॉन्ग कॉन्ग को 1997 में चाइना को सौंपे जाने के बाद शहर में पहली बार इतने व्यापक स्तर पर प्रदर्शन हो रहे हैं. काले कपड़े पहने हजारों प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक लगाकर सरकारी कार्यालयों के निकट दो सड़कों को बाधित कर दिया जिसके कारण यातायात रुक गया.

क्या है नया कानून, जिसका हो रहा विरोध
शोधित कानून के तहत ऐसे आरोपियों को प्रत्यर्पित किया जा सकेगा जिनकी दोषसिद्धि साबित होने पर उन्हें 7 वर्ष या इससे अधिक जेल की सजा का प्रावधान है. इसी कानून का बड़े पैमाने पर हॉन्ग कॉन्ग में विरोध हो रहा है. अमेरिका भी इस कानून को क्षेत्रीय स्वायत्ता प्रभावित करनेवाला बता चुकी है.

मानवाधिकार व स्वायत्तता के आधार पर हो रहा विरोध
नया विधेयक मुख्य कार्यकारी के रूप में जाने वाले हॉन्ग कॉन्ग के नेता को अदालतों की समीक्षा के बाद प्रत्यर्पण अनुरोध स्वीकार करने की अनुमति दे देगा. प्रस्तावित विधेयक के समर्थकों का बोलना है कि संशोधन यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं कि शहर अपराधियों का शरणस्थल नहीं बने. आलोचकों को इस बात की चिंता है कि चाइना इस कानून का प्रयोग पॉलिटिक्स विरोधियों व अन्य को चाइना प्रत्यर्पित करने के लिए कर सकता है जहां उनकी कानूनी सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं है. कानून के विरोध में बोला जा रहा है कि संशोधनों में प्रक्रियात्मक सुरक्षा का अभाव हॉन्ग कॉन्ग की स्वायत्तता को निर्बल कर सकता है. क्षेत्र में मानवाधिकारों, मौलिक स्वतंत्रता व लोकतांत्रित मूल्यों की सुरक्षा पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है.

व्यापारिक संघ, विद्यार्थी संघ कानून के विरूद्ध
पुलिस ने बुधवार को विधेयक पर तय बहस से कुछ घंटों पहले प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए कार्रवाई की. हॉन्ग कॉन्ग में 100 से अधिक कारोबारियों ने बोला कि वे प्रदर्शनकारियों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए बुधवार को अपने प्रतिष्ठान नहीं खोलेंगे. शहर के बड़े विद्यार्थी संघों ने घोषणा की कि वे रैलियों में शामिल होने के लिए कक्षाओं का बहिष्कार करेंगे.