G-20 शिखर सम्मेलन प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी डोनाल्ड ट्रंप से करेंगे इस बात पर चर्चा , जानिए ये है वजह

G-20 शिखर सम्मेलन प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी  डोनाल्ड ट्रंप से करेंगे इस बात पर चर्चा , जानिए ये है वजह

G-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार की प्रातः काल जापान पहुंचे. प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी शिखर सम्मेलन के अतिरिक्त कई राष्ट्रों के राष्ट्राध्यक्षों के साथ द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. इसमें सबसे जरूरी अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी की मुलाकात है.

Image result for    धान मंत्री नरेन्द्र मोदी  डोनाल्ड ट्रंप

माना जा रहा है कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ भी मुलाकात कर सकते हैं. मालूम हो कि जी-20 समिट से इतर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी 10 राष्ट्रों के साथ द्विपक्षीय बातचीत करेंगे.

  • भारत व अमरीका के बीच शुरु हो चुके ट्रेड वॉर के माहौल में डोनाल्ड ट्रंप व प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के मुलाकात पर सबकी निगाहें टिकीं हैं. हिंदुस्तान व अमरीका के बीच योगदान को बढ़ाने को लेकर चर्चा हो सकती है. बता दें कि दूसरे कार्यकाल के लिए पीएम निर्वाचित हुए मोदी से डोनाल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात है.
  • लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत दर्ज करने पर डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को फोन कर शुभकामना दी थी व साथ मिलकर भारत-अमरीका योगदान को बढ़ाने के लिए कार्य करने की प्रतिबद्धता जताई थी. अब जी-20 में प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात को लेकर सबकी निगाहें टिकीं है.
  • प्रधानमंत्री मोदी व डोनाल्ड ट्रंप के बीच व्यापार व आर्थिक मुद्दों पर द्विपक्षीय संबंधों में आए तनाव को दूर करने को लेकर वार्ता बहुत अहम हो सकती है.
  • पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात से पहले अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करते हुए बोला 'मैं इस तथ्य के बारे में प्रधान मंत्री मोदी के साथ बात करने के लिए उत्सुक हूं कि भारत, अमरीका के विरूद्ध बेहद टैरिफ लगा रहा है. हाल ही टैरिफ में व इजाफा किया गया. यह अस्वीकार्य है व टैरिफ को वापस लेना चाहिए.'
  • अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो हिंदुस्तान भ्रमण पर नयी दिल्ली पहुंचे व प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी और अपने समकक्ष एस। जयशंकर से मुलाकात की. नयी दिल्ली ववाशिंगटन के बीच आर्थिक साझेदारी को लेकर जो टकराव चल रहा है उसके निवारण को लेकर चर्चा की. मुलाकात के बाद पोम्पियो व जयशंकर ने एक साझा बयान में बोला कि दोनों देश साथ मिलकर कार्य करने को प्रतिबद्ध हैं. प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी व ट्रंप के बीच ट्रेड वॉर को लेकर चर्चा होने की आसार है.
  • भारत व रूस के बीच S-400 हवाई रक्षा प्रणालियों के लिए 5 बिलियन डॉलर के रक्षा सौदे को लेकर अमरीकी नाराजगी को दूर करने का भी कोशिश किया जाएगा. हालांकि हिंदुस्तान ने विदेशमंत्री माइक पोम्पियो के साथ मुलाकात के दौरान दो टूक जवाब देते हुए साफ कर दिया था कि S-400 सौदे को रद्द नहीं किया जा सकता है.
  • अमरीकी सरकार द्वारा 1 जून को हिंदुस्तान के लिए व्यापार रियायतों को खत्म करने के बाद हिंदुस्तान ने इस महीने की आरंभ में 28 अमरीकी वस्तुओं पर जवाबी शुल्क लगाया था. इसको लेकर मोदी व ट्रंप के बीच चर्चा की आसार है.
  • पाकिस्तान के मुद्दे में आतंकवाद को लेकर वार्ता संभव है. बालाकोट स्ट्राइक के बाद अमरीका ने पाक को चेतावनी दी थी कि आतंकियो के विरूद्ध कार्रवाई करें. अमरीका ने पाकपर कार्रवाई करते ही आर्थिक मदद रोक दी है.
  • ईरान मुद्दे पर वार्ता की आसार ज्यादा है. चूंकि वर्तमान परिस्थिति में ईरान व अमरीका के बीच तनाव बहुत ज्यादा गहरा गया है व अमरीका ने ईरान पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं. इसमें ईरान से कच्चे ऑयल खरीदने पर भी पाबंदी है. ऐसे में हिंदुस्तान के लिए महत्वपूर्ण है कि ईरान से ऑयल खरीदने के मसले को सुलझाया जाए.
  • अफगानिस्तान के साथ शांति बातचीत को लेकर भी दोनों नेताओं के बीच बातचीत संभव है. अफगानिस्तान में शांति बहाली को लेकर हिंदुस्तान के महत्वूर्ण सहयोग व आगे की रणनीति पर वार्ता संभव है.
  • एशिया-पेसिफिक में हिंदुस्तान के साथ मिलकर साझेदारी बढ़ाने पर अमरीका का जोर होगा. एशिया-पेसिफिक क्षेत्र चाइना को पछाड़कर अमरीका अपना वर्चस्व बढ़ाना चाहता है. ऐसे में अमरीका के लिए महत्वपूर्ण है कि हिंदुस्तान का साथ मिले.