भारती एयरटेल के ग्राहकों की संख्या में तेज गिरावट

भारती एयरटेल के ग्राहकों की संख्या में तेज गिरावट

देश के दूरसंचार उद्योग में जारी टैरिफ युद्ध और बेहतर डाटा नेटवर्क उपलब्ध कराने के टेलीकॉम कंपनियों के दावे के बावजूद देश की प्रमुख दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल के ग्राहकों की संख्या में तेज गिरावट दर्ज की गई है और मार्च में समाप्त वित्त वर्ष में इससे पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 7.1 प्रतिशत की कमी आई है। कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक के बाद जारी वित्तीय परिणाम के अनुसार दुनिया के 18 देशों में कारोबार करने वाली इस कंपनी के वैश्विक स्तर पर ग्राहकों की कुल संख्या मार्च 2018 में 39.57 करोड़ थी जो इस वर्ष मार्च में समाप्त वित्त वर्ष में 2.9 प्रतिशत घटकर 38.40 करोड़ पर आ गई।

भारत में उसके ग्राहकों की संख्या में सबसे अधिक 7.1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। मार्च 2018 में देश में उसके ग्राहकों की कुल संख्या 30.41 करोड़ थी जो इस वर्ष मार्च में घटकर 28.26 करोड़ पर आ गई। उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेलुलर के विलय से पहले एयरटेल ग्राहक संख्या के आधार पर देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी थी लेकिन वोडाफोन और आइडिया के विलय के बाद यह दूसरे पायदान पर आ गई।

अरबपति मुकेश अंबानी की दूरसंचार कंपनी रिलांयस जियो तीसरे नंबर पर थी, लेकिन हाल ही में उसने एयरटेल को ग्राहक संख्या बल के आधार पर पछाड़कर तीसरे पायदान पर पहुंचा दिया। रिलायंस जियो की शुरुआत से ही एयरटेल को कड़ी टक्कर मिल रही है और अब उसके ग्राहकों की संख्या में आ रही कमी से कंपनी के लिए नई परेशानियां शुरू होने की आशंका है। टैरिफ युद्ध के कारण एयरटेल के राजस्व और मुनाफे पर भारी दबाव बना हुआ है। हालांकि मार्च में समाप्त तिमाही में कंपनी के राजस्व और मुनाफे में बढोतरी दर्ज की गई है