बिजली की मांग को लेकर किसानों ने किया एक्शन कार्यालय का घेराव

बिजली की मांग को लेकर किसानों ने किया एक्शन कार्यालय का घेराव

 तहसील क्षेत्र के अखिल भारतीय किसान सभा के द्वारा चल रहा धरना पिछले 29 दिनों से एसडीएम कार्यालय के आगे जारी है किसान बीमा क्लेम और 6 घंटे बिजली देने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं 

बिजली की मांग को लेकर किसानों ने एसडीएम कार्यालय से रैली निकालकर प्रशासन के विरूद्ध जमकर नारेबाजी करते हुए एक्शन कार्यालय पर पहुंचकर प्रदर्शन करते हुए एक्शन कार्यालय का घेराव कर कृषि कुओं पर 6 घंटे बिजली देने की मांग की है किसानों के घेराव को लेकर एक्शन कार्यालय पर पुलिस बल भी तैनात किया गया किसानों की वार्ता में बिजली विभाग के एक्शन और थानाधिकारी बलराज सिंह मान भी उपस्थित रहे 

वार्ता में किसानों ने कृषि कुओं पर 6 घंटे बिजली देने की मांग की है, जिस पर बिजली विभाग के ऑफिसरों और किसानों के बीच सहमति नहीं बनी बिजली विभाग के ऑफिसरों ने बोला कि यह हमारे बस की बात नहीं है, ऊपर लेवल का मामला है अन्य कुछ मांगों को लेकर भी किसानों ने बिजली विभाग के अधिकारी से बात की है, जिसमें कुछ मांगों पर किसानों की सहमति बनी है लेकिन कृषि कुंओं पर 6 घंटे बिजली देने की मांग पर कोई वार्ता नहीं होने पर किसानों ने अपना धरना जारी रखने का आह्वान किया है 

अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने बताया कि जब तक किसानों की मांग पूरी नहीं होगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा इस आंदोलन में अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील अध्यक्ष भगवानराम जाखड़, तहसील मंत्री काशीराम सारण, ग्यानाराम, महावीरसिंह धीरासर, चिमन सिंह राजपूत, कुमाराम जाखड़, हजारी राम जाखड़, हरफूल घोटिया, रामकुमार गर, श्योदत पोटलिया, हडमानाराम पातलीसर सहित अनेक किसान मौजूद रहे


उदयपुर हत्याकांड की वजह से पर्यटन उद्योग को बड़ा झटका

उदयपुर हत्याकांड की वजह से पर्यटन उद्योग को बड़ा झटका

राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) में टूरिज्म इंडस्ट्री (Tourism Industry) से जुड़े लोगों का दावा है कि दर्जी कन्हैया लाल (Tailor Kanhaiya Lal) की मर्डर की वजह से पर्यटन उद्योग को बड़ा झटका लगा है घटना की वजह से उदयपुर आने वाले टूरिस्ट्स ने अगले दो महीनों के लिए होटलों में आधे से अधिक बुकिंग रद्द कर दी हैं उदयपुर में ज्यादातर लोगों के लिए टूरिज्म आजीविका का मुख्य साधन है और इससे जुड़े लोगों को डर है कि इस वारदात से बड़े पैमाने पर उदयपुर में टूरिस्ट्स की आवाजाही प्रभावित हो सकती है सितंबर से प्रारम्भ होने वाले टूरिस्ट सीजन पर इस घटना का नकारात्मक असर पड़ेगा

50 प्रतिशत से अधिक बुकिंग हुईं रद्द

उदयपुर के होटल एसोशिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और कारोही हवेली होटल के मालिक सुदर्शन देव सिंह ने बताया, ‘इस वारदात के बाद लोगों ने एडवांस बुकिंग रद्द करना प्रारम्भ कर दिया जुलाई और अगस्त महीने में मानसून के मौसम के दौरान हफ्ते अंत के लिए मेरे पास अच्छी संख्या में टूरिस्ट्स आने वाले थे लेकिन घटना के बाद अगले 2 महीनों के लिए 50 फीसदी से अधिक बुकिंग पिछले 5-6 दिनों के दौरान रद्द कर दी गई’ उन्होंने बोला कि कोविड-19 वायरस महामारी की वजह से टूरिज्म इंडस्ट्री पहले से प्रभावित था और इस वर्ष अच्छे बिजनेस की आशा थी लेकिन इस घटना ने उदयपुर की छवि को बुरी तरह प्रभावित किया है

शांतिपूर्ण शहर रहा है उदयपुर

जयपुर में राजस्थान एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स के सचिव संजय ने कहा, ‘उदयपुर एक बहुत ही शांतिपूर्ण शहर रहा है और ऐसा कोई घृणित क्राइम आज तक नहीं हुआ यह न सिर्फ उदयपुर बल्कि पूरे राजस्थान जहां टूरिज्म एक प्रमुख उद्योग है, के लिए एक झटका है’ उन्होंने कहा, ‘उदयपुर आने वाले कई टूरिस्ट्स ने घटना को देखते हुए अपनी एडवांस बुकिंग को रद्द कर दिया है उदयपुर सुन्दर स्थानों के अतिरिक्त शांतिपूर्ण वातावरण के कारण पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र था लेकिन इस घटना से नकारात्मक असर पड़ा है

झीलों की नगरी के नाम से मशहूर है उदयपुर

हरे-भरे स्थानों और पहाड़ियों से घिरा उदयपुर झीलों की नगरी के नाम से मशहूर पर्यटन स्थल है जो अपने शांत वातावरण और झीलों के लिए जाना जाता है इसे राष्ट्र के पर्यटन मानचित्र पर एक विशेष जगह मिला हुआ है यह हस्तशिल्प का भी केंद्र है

उदयपुर आने वाले ज्यादातर टूरिस्ट जगदीश चौक, हाथी पोल क्षेत्र ओर मालदास गली का दौरा करते हैं मालदास गली के पास एक दुकान में मंगलवार को दर्जी कन्हैया लाल की मर्डर हुई थी ज्यादातर हस्तशिल्प, वस्त्र, और आभूषणों की दुकानें इसी क्षेत्र में हैं