दिल्ली में कोरोना की मार हुई तेज 12 हजार के पार हुई मरीज की संख्या, एक ही दिन में 660 नए मामले

दिल्ली में कोरोना की मार हुई तेज 12 हजार के पार हुई मरीज की संख्या, एक ही दिन में 660 नए मामले

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मुद्दे प्रतिदिन रिकॉर्ड बना रहे हैं. दिल्ली में एक ही दिन में अब तक के सबसे ज्यादा मुद्दे शुक्रवार को दर्ज किए गए. दिल्ली सरकार की तरफ से जारी आंकड़े के अनुसार, पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 660 नए कोरोना के मरीज पॉजिटिव आए हैं. इसके साथ ही मरीजों की संख्या बढ़कर 12319 हो गई है.

दिल्ली सरकार की तरफ से जारी किए गए आंकड़े के अनुसार, पिछले 24 घंटे में14 कोरोना मरीजों की मृत्यु हो गई. इसके साथ ही मरने वाली की संख्या बढ़कर 208 हो गई है.राजधानी में अब तक 5897 मरीज उपचार के बाद अच्छा होकर घर जा चुके हैं. दिल्ली में अब 6214 एक्टिव मुद्दे हैं जिनका उपचार अस्पतालों में चल रहा है.

बता दें कि दिल्ली में कोरोना के नए मामलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी देखी जा रही है. इससे पहले बृहस्पतिवार को 571 नए मुद्दे सामने आए. यह एक दिन में अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा था. इससे पहले बुधवार को 534 मामलों की पुष्टि हुई थी. जबकि इसके एक दिन पहले 500 मुद्दे सामने आए थे.

एएसआइ की कोरोना से मौत

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक 50 वर्षीय सहायक उपनिरीक्षक (एएसआइ) की कोरोना से मृत्यु हो गई. मृतक एएसआइ पंचदेव राम लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में भर्ती थे. वह बिहार के सिवान जिले के रहने वाले थे व लिवर कैंसर से पीड़ित थे. वह जम्मू में सीआरपीएफ की 84 वीं बटालियन में थे. उनका परिवार लखनऊ में रहता है.

यह देश की सबसे बड़ी अर्धसैनिक बल में महामारी से जुड़ी दूसरी मृत्यु है. सीआरपीएफ में बृहस्पतिवार को संक्रमण के नौ नए मुद्दे सामने आए हैं व कोरोना वायरस से संक्रमित सक्रिय मामलों की संख्या अब 121 हैं. सीआरपीएफ के प्रवक्ता ने बताया कि एएसआइ की मृत्यु से पहले 31वीं बटालियन के एक 55 वर्षीय सब-इंस्पेक्टर की कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई थी. अब तक सीआइएसएफ के तीन व सीआरपीएफ व बीएसएफ के दो-दो जवानों की मृत्यु कोरोना के कारण हो चुकी है.

होम आइसोलेशन में हैं 46.43 मरीज

कोरोना के मुद्दे बढ़ने के कारण हल्के लक्षण या बगैर लक्षण वाले कोरोना संक्रमित ज्यादातर लोग अब कोविड केयर सेंटर या कोविड हेल्थ सेंटर में भर्ती नहीं किए जा रहे हैं. इस वजह से घर में रहकर उपचार कराने वाले मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. मौजूदा समय में 46.43 फीसद (2739) सक्रिय संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन में हैं.