चंडीगढ़ में कोरोना के चलते हुये लॉकडाउन से परेशान परिवार ने दी आत्महत्या करने की धमकी, पुलिस ने की मदद

चंडीगढ़ में कोरोना के चलते हुये लॉकडाउन से परेशान परिवार ने दी आत्महत्या करने की धमकी, पुलिस ने की मदद

चंडीगढ़। चंडीगढ़ (Chandigarh) पुलिस ने शनिवार को एक ऐसे परिवार की सहायता की जिसके पास लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से खाने को कुछ नहीं बचा था व वह आत्महत्या की धमकी दे रहा था। एक ऑफिसर ने बोला की पुलिस को एक महिला ने कॉल कर बोला कि उनके परिवार के पास भोजन व दवाई के लिए पैसे नहीं हैं इसलिए वह अपने पति व बीमार बच्चे के साथ आत्महत्या कर लेगी। पुलिस उपाधीक्षक दिलशेर सिंह क्षेत्र के थाना प्रभारी के साथ परिवार के मौलीजागरां स्थित घर पर पहुंचे व भोजन व कुछ पैसे देकर उनकी सहायता की। बता दें कि चंडीगढ़ में कोरोना के मरीजों की संख्या अब 8 हो गई है।



बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन लगा दिया। आज इस लॉकडाउन का पांचवा दिन है। जिसके चलते कई लोग परेशान हो रहे हैं लेकिन इनकी मदद के लिए पुलिस व कई संस्थाएं आगे आए हैं।

उधर कर्नाटक में भी इस तरह की सेवाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है। कालाबुरागी नगर निगम आयुक्त राहुल पांडे ने बोला 'यहां कार्यरत 7 इंदिरा कैंटीन में अनाथालयों, किशोर घरों व आश्रय घरों में भोजन के पैकेट वितरित किए जाएंगे' मैं लोगों से अनुरोध करता हूं कि वे अपने घरों पर रहें क्योंकि निगम सभी की मदद करेगा। '

इंडियन रेलवे वे की सब्सडियरी भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने भी आज से मुंबई के हजारों बेघर व गरीब लोगों को मुफ्त भोजन देने की व्यवस्था कर रही है। आईआरसीटीसी के सीएमडी एमपी मल ने कहा, आईआरसीटीसी के सभी जोनल रेलवे मुख्यालयों को विशेष प्रावधान व सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए बोला गया है, ताकि संबंधित क्षेत्रों में कई क्षेत्रों में बुनियादी भोजन थोक में उपलब्ध हो। उन्होंने कहा, 'हमने दिल्ली में यह सुविधा प्रारम्भ कर दी है व रविवार से यह सेवा मुंबई व देश के अन्य प्रमुख शहरों में प्रारम्भ होगी। हम देश भर में रोजाना दो लाख से अधिक पैकेटों की आपूर्ति करने के लिए तैयार हैं। '