China का सबसे बड़ा दावा, आम लोगों के लिए नवंबर तक उपलब्ध होगी कोरोना वैक्सीन

 China का सबसे बड़ा दावा, आम लोगों के लिए नवंबर तक उपलब्ध होगी कोरोना वैक्सीन

बीजिंग. कोरोना महमारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है व इसके निराकरण के लिए लगातार शोध काम चल रहे हैं. कोरोना वैक्सीन बनाने की दिशा में दुनियाभर के वैज्ञानिक कार्य कर रहे हैं व उम्मीद है कि बहुत जल्द ही कोरोना वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगा.

अब कोरोना वैक्सीन को लेकर चाइना ( China कोरोना वैक्सीन ) से बहुत बड़ी समाचार सामने आई है. कोरोना वायरस के जनक चाइना ने दावा किया है कि नवंबर तक आम लोगों को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी. यानी कि नबंवर तक कोरोना वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगा व आम लोग इसे लगवा पाएंगे.

चीन के रोग रोकथाम व बचाव केन्द्र यानी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ( CDC ) ने दावा किया है कि चाइना की चार कोरोना वैक्‍सीन अपने तीसरे व अंतिम चरण में हैं. CDC के एक ऑफिसर ने बताया कि चार में से तीन वैक्सीन को ट्रायल के तहत जुलाई में ही आवश्‍यक कामगारों को इमरजेंसी मंजूरी के बाद लगा भी दिया गया है, जो कि कारगार साबित हुआ है.

तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल जारी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार को सीडीसी की प्रमुख व बायोसेफ्टी जानकार गुइझेन वू ने सरकारी टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में बोला कि वैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल ठीक ढंग से चल रहा है व उम्मीद है कि नवंबर-दिसंबर तक कोरोना वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगी. आम नागरिकों के बीच नवंबर-दिसंबर तक कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होगी.

वू ने अपने इंटरव्यू में ये भी दावा किया कि उन्‍होंने अप्रैल महीने में कोरोना वैक्‍सीन का टीका लगवाया था. उसका कोई भी असामान्य असर देखने को अभी तक नहीं मिला है. हालांकि वू ने यह नहीं बताया कि तीन में से कौन सी वैक्सीन को उन्होंने लगवाया था.

एक लाख लोगों को लगाया जा चुका है वैक्सीन

आपको बता दें कि बीते दिनों चाइना की चाइना नैशनल बायोटेक ग्रुप ने दावा किया था कि उनकी कोरोना वैक्सीन सुरक्षित व प्रभावी है. कंपनी ने यह भी बोला था कि अभी तक जिन भी लोगों को वैक्सीन लगाया गया है, उनमें किसी भी तरह का कोई असामान्य असर या साइड इफेक्ट नहीं दिखा है.

चाइना नैशनल बायोटेक ग्रुप ने अपने आधिकारिक वीचैट एकाउंट पर ये बोला है कि अब तक देशभर में करीब एक लाख लोगों को कोरोनो वैक्सीन लगाया गया है.

मालूम हो कि चाइना ने तीन कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दी है. इनमें से दो चाइना नेशनल बायोटेक ग्रुप ने विकसित किया है. बहरहाल, चाइना से पहले रूस ने कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा किया है. इन दोनों राष्ट्रों के कोरोना वैक्सीन को अभी तक विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से मंजूरी नहीं मिली है व दुनियाभर में इसकी गुणवत्ता को लेकर कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं.