हिमाचल में नशीले इंजेक्शन साझा करने से बढ़ी एड्स की रफ्तार

हिमाचल में नशीले इंजेक्शन साझा करने से बढ़ी एड्स की रफ्तार

हिमाचल प्रदेश में असुरक्षित यौन संबंध की बजाय अब  नशीले इंजेक्शन साझा करने से एड्स की रफ्तार बढ़ गई है। पिछले 14 वर्षों के आंकड़े सामने आने के बाद इस नए ट्रेंड का तुलनात्मक खुलासा हुआ है। प्रदेश में वर्ष 2007 में ड्रग्स लेने वालों में यह संक्रमण दर एक फीसदी थी, जो अब 1.06 फीसदी पहुंच गई है। यानी यह 0.6 फीसदी बढ़ी है। हालांकि, इसका राष्ट्रीय औसत 6.26 फीसदी है। दरअसल, नशा लेने वाले युवा ड्रग्स लेते हुए एक ही सीरिंज का उपयोग कर रहे हैं। इसी से संक्रमण फैल रहा है। राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी के जुटाए आंकड़ों से यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

सुखद बात यह है कि प्रदेश मेें 15 से 49 साल की कुल जनसंख्या में वर्ष 2007 के बाद से अब तक संक्रमण की रफ्तार 67 फीसदी तक कम हुई है जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह दर 35 फीसदी है।  राज्य में वर्तमान में एचआईवी के साथ जी रहे और उपचार ले रहे लोगों की संख्या 4752 है। इनमें 204 मासूम बच्चे भी शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि 80 फीसदी एक्टिव मरीजों को दवा दी जा रही है। 79 फीसदी का वायरल लोड कम हुआ है। 84 फीसदी को डायग्नोज कर दिया है। वर्ष 2025 तक 95 फीसदी मरीजों को चिह्नित करना होगा और इनका इलाज करना होगा।

किससे कितना खतरा
उच्च जोखिम समूह के ट्रेंड की बात करें तो फीमेल सेक्स वर्कर में 0.08, पुरुष से पुरुष यौन संबंध वालों में 0.82 फीसदी, जेल में बंद कैदियों में 0.8 फीसदी और आईडी ड्रग्स यूजर्स यानी सीरिंज को शेयर कर नशे का सेवन करने वालों में संक्रमण के फैलने की दर 1.06 फीसदी है।

राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी विभिन्न विभागों, संस्थाओं और रिबन क्लबों के साथ मिलकर 
1 से 31 दिसंबर के बीच एड्स दिवस मनाएगी। इस वर्ष का थीम ‘असमानताओं को मिटाएं और एड्स का अंत करें’ है। सोसायटी जिला और खंड स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन करेगी। 
- घनश्याम सिंह, हिमाचल प्रदेश एड्स नियंत्रण सोसायटी के राज्य परियोजना अधिकारी 


पेट से जुडी समस्याओं में फायदेमंद होता है इस चीज का सेवन

पेट से जुडी समस्याओं में फायदेमंद होता है इस चीज का सेवन

आजकल खट्टी इमली हर किचन में मिलती है। किचन में इमली का अपना विशेष महत्व है। इमली का स्वाद बहुत ही खट्टा मीठा होता है जो हमारे खाने के स्वाद को दोगुना कर देता है। आज तक आपने इमली के इस्तेमाल से कई प्रकार के व्यंजन बनाए होंगे। पर क्या आपको पता है कि इमली हमारी सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है।

इमली खाने के फायदे:

अगर आप रोज़ाना इमली का रस पीते हैं तो इससे कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचाव होता है। इमली में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो कैंसर और किडनी फेलियर की समस्या से बचाते हैं।

इमली में भरपूर मात्रा में विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, पोटेशियम, मैग्नीशियम, फाइबर मौजूद होते हैं जो सेहत से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने में सहायक होते हैं।

अगर आपको पेट से जुड़ी समस्याएं रहती हैं तो आधा कप इमली के पेस्ट में शहद और नींबू का रस मिलाएं। अब इसमें थोड़ा सा गर्म पानी डालकर रात भर के लिए छोड़ दें। सुबह उठने पर इसे पी ले।

इमली का सेवन करने से शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। इमली में भरपूर मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स मौजूद होते हैं जो शुगर को कंट्रोल में रखने का काम करते हैं। 

इमली में भरपूर मात्रा में हाइड्रोऑक्साइड एसिड मौजूद होता है जो फैट को कम करने वाले एंजाइम को बढ़ाती है। रोजाना इमली का सेवन करने से वजन आसानी से कम हो जाता है।