मार्केट में नहीं होगी महत्वपूर्ण वस्तुओं की कमी, मुनाफाखोरी करने वालों पर होगी कठोर कार्रवाई: केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान

मार्केट में नहीं होगी महत्वपूर्ण वस्तुओं की कमी, मुनाफाखोरी करने वालों पर होगी कठोर कार्रवाई:  केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान

नई दिल्ली, पीटीआइ. कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार आधी रात से 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की है। बुधवार को केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने बोला कि ऐसे दशा में सरकार की नजर मार्केट में आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता पर है. पासवान ने इस दौरान विनिर्माताओं व व्यापारियों से कठोर बोला कि वे मुनाफाखोरी न करें.

उन्होंने बोला कि केन्द्र यह सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश सरकारों के साथ सम्पर्क में है कि आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी न हो. पासवान ने ट्वीट किया, 'सरकार कोरोना वायरस के खतरे से उत्पन्न स्थिति में तमाम आवश्यक वस्तुओं की मार्केट में उपलब्धता पर लगातार नजर बनाए हुए है व सभी प्रदेश सरकारों के सम्पर्क में है ताकि कहीं भी किसी वस्तु की किल्लत न हो.'

सरकार कोरोना #Covid19India के खतरे से उत्पन्न स्थिति में तमाम आवश्यक वस्तुओं की मार्केट में उपलब्धता पर लगातार नजर बनाए हुए है व सभी प्रदेश सरकारों के सम्पर्क में है ताकि कहीं भी किसी वस्तु की किल्लत न हो. सभी उत्पादकों व व्यापारियों से भी अपील है कि इस घड़ी में मुनाफाखोरी से बचें.

साथ ही उन्होंने कहा, 'सभी उत्पादकों व व्यापारियों से भी अपील है कि इस घड़ी में मुनाफाखोरी से बचें.' इस बीच केन्द्र ने कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए 23 मार्च को राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को राशन की दुकानों से खाद्य सामग्री बांटने के लिए भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) से तीन महीने का खाद्यान्न उठाने की अनुमति दी थी.

बता दें कि देश में अब तक 562 लोगों में कोरोनावायरस की पुष्टि हो चुकी है. इसमें से 43 विदेशी हैं. 40 लोगों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. वहीं, 10 लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है.