जाने लॉकडाउन के दौरान कैसे होगी गैस सिलेंडर की डिलीवरी

जाने लॉकडाउन के दौरान कैसे होगी गैस सिलेंडर की डिलीवरी

कोरोना वायरस से निपटने के लिए सारे देश में जारी 21 दिनों के लॉकडाउन के चलते रसोई गैस की मांग में जबरदस्त इजाफा हुआ है.  इसके लिए सिलेंडर गैस की सप्लाई करने वाली कंपनियों ने भी अपनी कमर कस ली है. एचपीसीएल के चेयरमैन मुकेश सुराणा ने एएनआई को बताया है कि  उन्होंने एक सिस्टम तैयार किया है जिससे लोगों को उनकी आवश्यकता के हिसाब से गैस सिलेंडर मिलता रहे. 

मुकेश सुराणा ने बताया कि  हमारे 90 प्रतिशत डिलीवरी ब्वॉयज पूरी तत्परता से कार्य में जुटे हुए हैं. हमने ऐसा सिस्टम तैयार किया है जिसमें उपभोक्ता एक सिलेंडर लेने के 14 दिन बाद ही दूसरी बुकिंग कर पाएगा. लोगों को चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है. आपको आवश्यकता के हिसाब से सिलेंडर मिलता रहेगा.

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों में एलपीजी गैस सिलेंडर की मांग में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है. जबकि लॉकडाउन से होटल व कैंटीन बंद रहने व शादियां टलने की वजह से कॉमर्शियल सिलेंडर की मांग पांच प्रतिशत रह गई है.

पेट्रोलियम मंत्रालय का बोलना है कि एलपीजी, सीएनजी व पेट्रोल-डीजल की कोई कमी नहीं है. मांग के मुताबिक उपभोक्ताओं को एलपीजी गैस सिलेंडर मुहैया कराने के सभी बंदोवस्त किए जा रहे हैं. 

गैस एजेंसियों से जुड़े लोगों का बोलना है कि उपभोक्ताओं में भय है कि एलपीजी की किल्लत हो सकती है. इसलिए वह गैस बुक करा रहे हैं. सबसे ज्यादा मांग दिल्ली, यूपी व बिहार से आ रही है. रसोई गैस के कारोबार से जुड़े जानकार मानते हैं कि सामान्य तौर पर रसोई गैस की मांग व बुकिंग में इतनी वृद्धि नहीं होती है.

वहीं, हाल ही में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज की घोषणा की थी. वित्त मंत्री ने उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को अगले तीन महीने तक मुफ्त में गैस सिलेंडर देने की भी घोषणा की थी. केन्द्र सरकार की इस घोषणा से देश के करीब 8.3 करोड़ गरीब परिवारों को सीधा फायदा मिलेगा.