कोरोना वायरस: फ्लिपकार्ट ने अस्थायी रूप से कामकाज किया बंद किया, अमेजन भी नए ऑर्डर लेना किया बंद

कोरोना वायरस: फ्लिपकार्ट ने अस्थायी रूप से कामकाज किया बंद किया, अमेजन भी नए ऑर्डर लेना किया बंद

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन से ई-कॉमर्स कंपनियों का कारोबार भी सिमट गया है. फ्लिपकार्ट ने बुधवार को हिंदुस्तान में अपना कारोबार अस्थायी रूप से रोकने का ऐलान किया है तो अमेजन ने नए ऑर्डर लेने बंद कर दिए हैं. कंपनी महत्वपूर्ण वस्तुओं को अहमियत देते हुए डिलीवरी कर रही है व गैर-जरूरी वस्तुओं के ऑर्डर कैंसल करने का विकल्प भी ग्राहकों को दिया गया है. 

फ्लिपकार्ट ने कहा, जल्द आएंगे वापस 
वॉलमार्ट के स्वामित्व वाले फ्लिपकार्ट ने बुधवार को बोला कि वह हिंदुस्तान में अस्थायी रूप से अपने परिचालन को बंद कर रहा है. कंपनी ने कोविड-19 महामारी को रोकने के लिए की गई 21 दिन की देशव्यापी बंदी के मद्देनजर यह निर्णय किया है. फ्लिपकार्ट ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, '24 मार्च को गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश के अनुसार कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सारे हिंदुस्तान में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा हुई है, इसलिए हम अस्थायी रूप से अपनी सेवाओं को निलंबित कर रहे हैं.' ब्लॉग में आगे बोला गया, 'हम जितनी जल्दी हो सकेगा, आपकी सेवा करने के लिए वापस आएंगे.'

अमेजन नहीं ले रहा गैर-जरूरी वस्तुओं का ऑर्डर
इससे पहले अमेजन इंडिया ने मंगलवार को बोला था कि उसने अस्थायी रूप से कम अहमियत वाले उत्पादों के ऑर्डर लेने बंद कर दिए हैं व वह स्वच्छता व अन्य उच्च अहमियत वाले उत्पादों की आपूर्ति पर ध्यान केंद्रित कर रही है. देश में ई-कॉमर्स कंपनियों को उत्पादों की आपूर्ति में बाधा का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि, सरकार ने अपनी अधिसूचना में ई-कॉमर्स के माध्यम से खानेपीने, दवा व चिकित्सा उपकरणों सहित सभी आवश्यक सामानों की डिलीवरी की अनुमति दी है.

21 दिनों के लिए है लॉकडाउन
पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 21 दिनों के लिए सारे देश में बंद की घोषणा की थी. हिंदुस्तान में कोरोना वायरस से अब तक लगभग 10 लोगों की मृत्यु हो चुकी है व 500 से अधिक संक्रमित हैं.