बिना गाड़ी खरीदे बदल-बदल कर चलाएं कार

बिना गाड़ी खरीदे बदल-बदल कर चलाएं कार

नयी दिल्लीः देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने गुरुवार से लीज पर कार देने की सुविधा को प्रारम्भ किया है। कंपनी ने इसे ‘मारुति सुजुकी सब्सक्राइब’ ब्रांड नाम से पेश किया है। इस सुविधा में लोग बिना गाड़ी खरीदे ही कार को एक निश्चित अवधि के लिए चला सकते हैं।   

इन शहरों में मिलेगी सुविधा
मारुति ने एक बयान में बोला कि आरंभ में पायलट परियोजना के आधार पर उसने गुरुग्राम व बेंगलुरू में इस सेवा की आरंभ की है। इसके तहत वह स्विफ्ट, डिजायर, विटारा ब्रेजा व अर्टिगा को मारुति सुजुकी एरेना के माध्यम से एवं बलेनो, सियाज व एक्सएल को नेक्सा के माध्यम से किराये पर उपलब्ध कराएगी।

यह होती है लीज पर कार देने का नियम
कोई कंपनी एक निश्चित अवधि के लिए ग्राहक को उसके व्यक्तिगत उपयोग के लिए सशर्त वाहन उपलब्ध कराती है। इसके लिए ग्राहक को कार की पूरी मूल्य देकर खरीदना नहीं होता व कार पर अंतिम मालिकाना हक भी कंपनी का बना रहता है। ग्राहक को बस अपने प्रयोग की अवधि के लिए कार का किराया चुकाना होता है।

ओरिक्स से किया है करार
इस सेवा के लिए उसने ओरिक्स ऑटो इंफ्रास्ट्रक्चर सर्विस लिमिटेड के साथ गठजोड़ किया है। यह जापान की ओरिक्स कॉरपोरेशन की सहयोगी कंपनी है जो हिंदुस्तान में इस सेवा का परिचालन करेगी।   कोविड-19 संकट के दौरान कारों की बिक्री बढ़ाने व ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने के लिए वाहन कंपनियां नए-नए ढंग खोज रही हैं।  

हुंदै ने पिछले वर्ष की थी शुरुआत
पिछले वर्ष मारुति की प्रतिद्वंदी हुंदै मोटर इंडिया ने भी इस तरह की सेवा प्रारम्भ की थी। इसे आरंभ में छह शहरों में खुद के प्रयोग के लिए किराये पर वाहन उपलब्ध कराने वाली कंपनी रेव के साथ साझेदारी में प्रारम्भ किया गया था।  

इसी तरह एमजी मोटर भी खुद प्रयोग के लिए किराये पर वाहन उपलब्ध कराने वाली कंपनी मायल्स के साथ मिलकर अपनी कारें किराये पर उपलब्ध करा रही है। जर्मनी की कार कंपनी फॉक्सवैगन ने इसी वर्ष मई से अपनी सभी बीएस-6 कारों को लीज पर उपलब्ध कराने की योजना प्रारम्भ की है। इसके तहत ग्राहक न्यूनतम दो से चार वर्ष की अवधि के लिए कार ले सकते हैं।