बिहार में लालू के साथ जाएंगे मोदी के हनुमान, MLC चुनाव में चिराग को RJD से आधा दर्जन सीटों का आफर

बिहार में लालू के साथ जाएंगे मोदी के हनुमान, MLC चुनाव में चिराग को RJD से आधा दर्जन सीटों का आफर

लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के संस्‍थापक चिराग पासवान (Chirag Paswan) का राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) से मोहभंग होता दिख रहा है। वे जल्‍द ही एनडीए से बाहर जा सकते हैं। बताया जा रहा है कि खुद को कभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान (Hanuman of PM Narendra Modi) बाताने वाले चिराग पासवान अब राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के साथ जा सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो यह चिराग का बड़ा राजनीतिक यू-टर्न होगा। सूत्रों की मानें तो चिराग पासवान को आरजेडी ने बिहार विधान परिषद की 24 सीटों पर होने जा रहे चुनाव (Bihar MLC Election) में करीब आधा दर्जन सीटों का आफर दिया है।


बिहार में बीजेपी व नीतीश को कमजोर करना चाहते हैं लालू

मिली जानकारी के अनुसार लालू प्रसाद यादव बिहार में बीजेपी तथा मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को कमजोर करने की रणनीति के तहत चिराग पासवान को अपने पाले में करना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि चिराग की पार्टी आरजेडी से गठबंधन कर विधान परिषद का चुनाव लड़े। सूत्र बताते हैं कि इस मामले में आरजेडी व एलजेपी (रामविलास) के प्रदेश स्तरीय नेता संपर्क में हैं। चिराग की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी और संसदीय दल के अध्यक्ष हुलास पांडेय आरजेडी से बातचीत कर रहे हैं।


आरजेडी का नाम लिए बिना गठबंधन की बातचीत को माना

इस बातचीत के संबंध में दोनों दलों के नेता बोलने से परहेज कर रहे हैं। चिराग की पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी ने इतना जरूर कहा है कि गठबंधन के लिए बातचीत चल रही है, लेकिन यह बातचीत किस दल के साथ चल रही है, उन्होंने नहीं बताया। इसके पहले बीते 13 नवंबर को पटना में चिराग पासवान ने कहा था कि आगामी चुनाव वे गठबंधन के तहत लड़ेंगे। तब माना गया था कि उनका इशारा विधान परिषद चुनाव की ओर था। हालांकि, चिराग ने तब गठबंधन के दल की ओर इशारा नहीं किया था।

पार्टी स्थापना दिवस के अवसर पर घोषणा कर सकते हैं चिराग

माना जा रहा है कि चिराग पासवान 28 नवंबर को पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर पटना में गठबंधन की घोषणा कर सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो यह चिराग का बड़ा राजनीतिक कदम होगा। खुद को प्रधानमंत्री का करीबी व उन्‍हें राम कहते हुए खुद को उनका हनुमान बताते रहे चिराग पासवान का यह कदम उनका बड़ा राजनीतिक यू-टर्न होगा।


नालंदा में सड़क दुर्घटना में वार्ड सदस्य और उसके साथी की मौत, पूर्व मुखिया पर परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप

नालंदा में सड़क दुर्घटना में वार्ड सदस्य और उसके साथी की मौत, पूर्व मुखिया पर  परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप

बिहार के नालंदा (Nalanda Bihar) के नूरसराय थाना इलाके के बिहारी मकनपुर छिलका के समीप बुधवार की देर शाम सड़क हादसे में जख्मी वार्ड सदस्य की मौत इलाज के दौरान हो गई. मृतक जगदीशपुर तियारी गांव निवासी राजेंद्र प्रसाद का 48 वर्षीय पुत्र रंजीत कुमार हैं. वार्ड सदस्य की मौत के बाद परिजन इसे चुनावी रंजिश में हत्या बता रहे हैं.

परिजनों के हत्या की आरोप के बाद पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है. मृतक के भाई ने आरोप लगया है कि उनके भाई को जानबूझकर ट्रक से टक्कर मारकर हत्या कर दी गई. दुर्घटना बुधवार को हुआ था. जब वार्ड सदस्य रंजीत कुमार उदय कुमार के साथ कहीं से आ रहे थे. इसी दौरान पीछे से आ रही एक ट्रक ने उनकी मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी थी. जिसके बाद उदय कुमार की मौत हो गई थी. वहीं रंजीत कुमार गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इसके बाद अस्पताल में उनका इलाज कराया जा रहा था. जहां गुरुवार की रात उनकी मौत हो गई.

पूर्व मुखिया पर आरोप

मृतक के भाई ने इस मामले में बताया कि पंचायत चुनाव में उसका भाई रंजीत वार्ड सदस्य चुना गया. इस चुनाव में घर के दूसरे सदस्य भी चुनाव लड़ रहे थे. इधर पूर्व मुखिया चुनाव में अपने हार का कारण रंजीत और परिवार के सदस्य को बता रहा था. इसी चुनावी रंजिश में जानबूझकर सड़क हादसा का रूप देकर उनके भाई की हत्या करवा दी गई.

“ट्रक से टक्कर मारकर हत्या”

मृतक के भाई का आरोप है कि जब रंजीत अपने एक और साथी के साथ बाइक से लौट रहा था तो उस वक्त ट्रक सड़क किनारे खड़ी थी. जैसे ही वह आगे बढ़ा कि पीछे से आकर ट्रक ने बाइक में जबरदस्त टक्कर मार दी. जिससे इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. मामले में नूरसराय पुलिस अस्पताल पहुंचकर शव का पोस्टमार्टम करवाने की प्रक्रिया में जुट गई है.

मामले की जांच कर रही है पुलिस

इधर हत्या के लग रहे आरोपों पर थाना अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी ने बताया कि मामले की छानबीन की जा रही है. जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि यह सड़क हादसा है या साजिश के तहत हत्या कराई गई है. गांव में दो दिनों के भीतर दो लोगों की मौत से कोहराम मत गया है.मृतक के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है.