बिहार पुलिस के 387 दरोगा अकादमी की परीक्षा में फेल, पासिंग आउट परेड के बाद फील्‍ड में कर रहे ड्यूटी

बिहार पुलिस के 387 दरोगा अकादमी की परीक्षा में फेल, पासिंग आउट परेड के बाद फील्‍ड में कर रहे ड्यूटी

बिहार पुलिस अकादमी (Bihar Police Academy) से इस वक्‍त की सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है, जहां आतंरिक परीक्षा में 387 दरोगा फेल कर गए हैं। पासिंग आउट परेड (Passing Out Parade) के बाद ये सभी बिहार के विभिन्‍न जिलों में सेवा दे रहे हैं। हैरानी की बात है कि इन में से कई ऐसे हैं, जिन्‍हें निदेशक की मूल्‍यांकन परीक्षा में शून्‍य अंक प्राप्‍त हुए हैं। फेल दरोगा (SI) काे पास करने के लिए दो और मौके मिलेंगे। यदि वे दो और मौकों में भी फेल हो गए तो उनकी नौकरी चली जाएगी। परीक्षा में फेल सभी दरोगा वर्तमान में प्रोबेशन पीरियड में हैं।

पास होने के लिए 50 फीसद अंक लाना अनिवार्य

सभी 2018 बैच के सब-इंस्‍पेक्‍टर हैं। इस बैच में 1581 अभ्‍यर्थियों का चयन हुआ था। 26 अगस्‍त को राजगीर स्थित बिहार पुलिस अकादमी में पासिंग आउट परेड हुई थी, जिसमें मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) बतौर मुख्‍य अतिथि उपस्थिति थे। इसके बाद चयनित अभ्‍यर्थियों को प्रोबेशन सब-इंस्‍पेक्‍टर के तौर पर जिलों में तैनात किया गया था। अकादमी के उप महानिरीक्षक (DIG) प्राणतोष कुमार दास ने बताया कि विभिन्‍न विषयों में कुल 2300 नंबर की परीक्षा होती है। उत्तीर्ण होने के लिए अभ्‍यर्थियों को सभी विषयों में कम से कम 50 फीसद अंक लाना अनिवार्य है। कुल 387 अभ्‍यर्थी फेल हुए हैं, जो भर्ती की संख्‍या का लगभग 25 फीसद है। इनमें कुछ अनुपस्थित भी थे। निदेशक के मूल्‍यांकन में 10 अभ्‍यर्थियों को जीरो अंक भी मिले हैं। परीक्षा पास करने के बाद ही उन्‍हें सर्टिफिकेट दिया जाएगा।


इन जिलों में तैनात हैं ट्रेनी सब-इंस्‍पेक्‍टर

बिहार पुलिस अकादमी से मिली जानकारी के अनुसार ट्रेनी सब-इंस्‍पेक्‍टरों की तैनाती लगभग सभी 38 जिलों में की गई है। पटना में 71, मुजफ्फरपुर में 91, भागलपुर में 70, रोहतास में 49, गया में 37 और औरंगाबाद में 19 ट्रेनी सब-इंस्‍पेक्‍टर सेवा दे रहे हैं। इसी तरह सारण में 79, सिवान में 61, वैशाली में 55, समस्‍तीपुर में 53, दरभंगा में 48, बेतिया में 46, मधुबनी में 40, मोतिहारी में 44, खगडि़या व पूर्णिया में 37-37, किशनगंज व बक्‍सर में 36-36, बेगूसराय व कटिहार में 35-35, जमुई में 34, नालंदा में 32, मुंगेर में 27, नौगछिया में 25, बगहा व अरवल में 24-24, नवादा में 22, लखीसराय में 17, शिवहर में 15, शेखपुरा में 13 और जहानाबाद में 11 प्रशिक्षु दरोगा सेवारत हैं।


समस्तीपुर में नामांकन के दौरान रुपये बांट रहे निवर्तमान मुखिया का वीडियो वायरल

समस्तीपुर में नामांकन के दौरान रुपये बांट रहे निवर्तमान मुखिया का वीडियो वायरल

पटोरी प्रखंड कार्यालय परिसर में एक निवर्तमान मुखिया के द्वारा नामांकन के पश्चात सरकारी कर्मी और पुलिसकर्मियों के बीच रुपये बांटने का वीडियो वायरल हुआ है। वायरल वीडियो इंटरनेट मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। इसे काफी तेजी से शेयर किया जा रहा है तथा कई प्रकार के कमेंट्स भी आ रहे हैं। हालांकि दैनिक जागरण इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है किंतु इसकी शिकायत पटोरी के प्रखंड विकास पदाधिकारी सह निर्वाचन अधिकारी को लिखित रूप से मिली है। शिकायत मिलने के पश्चात प्रखंड विकास पदाधिकारी ने इस मामले की छानबीन का जिम्मा पटोरी के सीओ सह नोडल पदाधिकारी विकास कुमार को सौंप दिया है।


वायरल वीडियो में स्पष्ट दिखाया गया है कि पटोरी प्रखंड के हरपुर सैदाबाद के निवर्तमान मुखिया अवधेश राय नामांकन के पश्चात प्रखंड कार्यालय परिसर में स्थित मंदिर में पूजा अर्चना के पश्चात पुलिस और सरकारी कर्मियों तथा वहां मौजूद लोगों के बीच 500 रुपए के नोट बांटते नजर आ रहे हैं। इस संबंध में पूछे जाने पर पटोरी के अंचल पदाधिकारी विकास कुमार ने बताया की वायरल वीडियो तथा मिली शिकायत के पश्चात अभ्यर्थी के विरुद्ध आचार संहिता के उल्लंघन की प्राथमिकी पटोरी थाने में दर्ज कराई गई है।

 
बिना नामांकन कराए बैरंग लौटी महिला मुखिया प्रत्याशी

वारिसनगर। प्रखंड में शनिवार से शुरू हुए नामांकन प्रक्रिया में तब अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई। जब मोहिउद्दीनपुर पंचायत से नामांकन करने आयी एक महिला प्रत्याशी को प्रखंड विकास पदाधिकारी सह प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी रंजीत कुमार वर्मा ने बिना नामांकन कराए बैरंग वापस कर दिया। उनका बताना था कि उक्त पंचायत से अंशु कुमारी पति आशीष आनंद मुखिया पद से नामांकन करने आयी थी। परंतु उनके द्वारा प्रस्तुत कागजात में जन्मतिथि 30 अगस्त 2001 होने पर निर्वाचन के लिए तय उम्र सीमा 21 वर्ष की अहर्ता पूर्ण नही करने के कारण उसके नामांकन पत्र को वापस कर दिया गया। बताया गया कि बीडीओ ने कहा कि उम्र 20 साल ही पूरा हो रहा है। ऐसे में नामांकन के बाद भी वह रद हो जाएगा। इस पर प्रत्याशी बिना नामांकन किए हुए वापस लौट गई।