बेखौफ अपराधियों ने JDU नेता अशोक यादव को सरेआम गोलियों से भून कर बेरहमी से मर्डर को दिया अंजाम

बेखौफ अपराधियों ने JDU नेता अशोक यादव को सरेआम गोलियों से भून कर बेरहमी से मर्डर को दिया अंजाम

नई दिल्ली: बिहार (Bihar Crime) से सनसनीखेज मुद्दा सामने आ रहा है. यहां बेखौफ अपराधियों ने JDU नेता अशोक यादव (Ashok Yadav) को सरेआम गोलियों से भून कर बेरहमी से मर्डर कर दी. इस घटना से सारे इलाके में हड़कंप मच गया है. वहीं, मृत शरीर को पोस्टमार्टम ( Postmortem ) के लिए भेज दिया गया है. इधर, पुलिस ने घटना की छानबीन प्रारम्भ कर दी है.

JDU नेता की बेरहमी से हत्या

घटना बिहार (Bihar) के मधेपुरा ( Madhepura) की है. बताया जा रहा है कि बाइक सवार बेखौफ अपराधियों ने जेडीयू नेता अशोक यादव ( JDU Leader Ashok Yadav Murder ) की गोली मारकर मर्डर कर दी. पुलिस के मुताबिक, गम्हरिया प्रखंड (Gamharia Block) के जेडीयू अध्यक्ष अशोक यादव अपने गांव जोगबनी में एक दुकान के पास खड़े थे. जेडीयू नेता वहां पर कुछ लोगों से बात कर रहे थे. तभी बाइक सवार क्रिमिनल वहां पहुंचे व अंधाधुन्ध फायरिंग (Firing) प्रारम्भ कर दी. गोलियों की तड़तड़ाहट से इलाके में हड़कंप मच गया है. वहीं, वारदात को अंजाम देने के बाद क्रिमिनल मौके से फरार हो गए. आनन-फानन में अशोक यावद (Ashok Yadav) को हॉस्पिटल (Hospital) ले जाया गया. लेकिन, उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई. बताया जा रहा है कि जेडीयू प्रखंड अध्यक्ष को दो गोली पेट में लगी थी.

मामले की छानबीन में जुटी पुलिस

पुलिस का बोलना है कि गोली लगने के बाद जेडीयू अध्यक्ष को लोकल पीएचसी (PHC) में भर्ती कराया गया. लेकिन, उनकी दशा लगातार बिगड़ती जा रही थी. लिहाजा, बेहतर उपचार के लिए उन्हें सुपौल ( Supaul ) भेजा गया. लेकिन, वहां पर उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई. वहीं, पुलिस ने मृत शरीर को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. इधर, इस घटना में FIR दर्ज कर ली गई है व पुलिस ने मुद्दे की छानबीन प्रारम्भ कर दी है. लेकिन, अपराधियों को लेकर अब तक कोई जानकारी नहीं मिली है. हालांकि, यह मर्डर (Murder) क्यों की गई इसके बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिली है. फिलहाल, सारे इलाके में तनाव का माहौल कायम है. वहीं, कुछ लोकल नेताओं ने इस घटना पर दुख प्रकट किया है व आरोपियों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है. यहां आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि बिहार में इस तरह की घटनाएं अक्सर सामने आती रहती हैं.