प्रेमी की खातिर सुपारी दे करा दी पति की हत्या, ऐसे खुला राज

प्रेमी की खातिर सुपारी दे करा दी पति की हत्या, ऐसे खुला राज

खुद से कम आयु के प्रेमी से विवाह करने की खातिर महिला ने पति की 3.25 लाख रुपये की सुपारी देकर मर्डर करा दी. पुलिस ने बीते आठ जुलाई को बाढ़ थानांतर्गत शहरी मार्केट समिति के गेट के सामने हुई बाढ़ शहरी क्षमता ग्रिड के गार्ड पंकज कुमार गुप्ता (36) की मर्डर की गुत्थी सुलझा दी है. 

इस खूनी वारदात की मास्टरमाइंड मृतक की पत्नी बाढ़ के अगवानपुर निवासी शोभा देवी (28) व उसका प्रेमी अगवानपुर निवासी गोलू उर्फ सन्नी 20 निकला. भाई मुकेश ने भी इस घटना में बहन शोभा का साथ दिया. पुलिस ने शोभा, गोलू, साजिश में शामिल मनीष  (अगवानपुर, बाढ़), मोहित  (अगवानपुर, बाढ़), कांट्रैक्ट कातिल आयुष राज (धनामा बाढ़), राजा सिंह (बिचली मलाही, बाढ़) और मुकेश कुमार (सकसोहरा, नालंदा) को अरैस्ट कर लिया है. अपराधियों से घटना में प्रयोग बाइक, दो गोलियां, दो लाख रुपये, पासबुक व ब्लैंक चेक बरामद किए गए हैं. बाढ़ थानेदार संजीत कुमार के मुताबिक, एक क्रिमिनल फरार है, जिसकी तलाश में छापेमारी की जा रही है. 

पति की मर्डर के लिए शोभा ने कातिल को हस्ताक्षर किया ब्लैंक चेक दिया था. दरअसल सबसे पहले क्रिमिनल राजा सिंह ने 50 हजार एडवांस मागे. झुमका बेचकर शोभा ने उसे 45 हजार रुपये दिये. इसके बाद कातिल आयुष ने तीन लाख मांगे. शोभा ने बोला कि वह एडवांस 45 हजार राजा को दे चुकी है. इसके बाद रुपये कार्य होने पर मिलेंगे. कातिल को भरोसा दिलाने को उसने एक ब्लैंक चेक दे दिया. घटना के दूसरे दिन शोभा भाई मुकेश के साथ बैंक गई व रुपये निकालकर आयुष को दे दिये. उधर,आरोपित ने पुलिस को बताया कि यह उसकी पहली वारदात है. शौक को पूरा करने को मर्डर की थी, ताकि कुछ रुपये मिल सके.   

पति ने लगाई फटकार तो शोभा ने रच दी साजिश 
दरअसल, पंकज ने शोभा व गोलू को घंटों फोन पर बातें करते सुन लिया था. यही नहीं, शोभा ने हाथ पर गोलू के नाम का टैटू बनवा रखा था. इसको लेकर पंकज ने एक दिन शोभा को पीटा भी था. यह बात शोभा ने अपने प्रेमी गोलू को बता दी. फिर दोनों ने पंकज को रास्ते से हटा देने की साजिश रच डाली. गोलू ने साथी मनीष को यह बात बताई. मनीष ने आम्र्स एक्ट के मुद्दे में कारागार गए मोहित को साजिश बताई. मोहित ने मर्डर कराने को युवक रार्जा ंसह से सम्पर्क साधा. राजा ने एडवांस के रूप में 45 हजार रुपये भी लिये. इसके बाद उसी ने आयुष से सम्पर्क साधा तो उसने इसके एवज में तीन लाख रुपये मांगे. अंत में बात दो लाख 80 हजार रुपये पर तय हुई.