Advocate Babar Qadri ने 3 दिन पहले बताया था खुद की जान को खतरा

Advocate Babar Qadri ने 3 दिन पहले बताया था खुद की जान को खतरा

नई दिल्ली: जम्मू और कश्मीर में आतंकवादी हमलों का सिलसिला जारी है. गुरुवार को श्रीनगर में संदिग्ध आतंकियों ने एक 40 वर्षीय वकील की उनके घर पर गोली मारकर मर्डर कर दी. वकील बाबर कादरी ( Advocate Babar Qadri ) की मर्डर करने के बाद हमलवार मौके से फरार हो गए. वकील कादरी टीवी खबर चैनलों पर बहसों में अक्सर दिखते थे. वह खबर पत्रों में नियमित रूप से आर्टिक्ल लिखते थे.

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि बाबर कादरी को गंभीर हालत में एसकेआईएमएस अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. कादरी पिछले 24 घंटों में आतंकियों द्वारा मारे जाने वाले दूसरे आदमी हैं. इससे पहले बुधवार की रात बडगाम जिले में एक ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के चेयरमैन भूपिंदर सिंह की भी आतंकवादियों ने गोली मारकर मर्डर कर दी थी.

बता दें कि 3 दिन पहले अधिवक्ता ने एक स्क्रीनशॉट ट्विटर हैंडल से लिखा है था. अपने ट्विट में उन्होंने जम्मू और कश्मीर पुलिस को जानकारी दी थी कि कोई फेसबुक यूजर उनके विरूद्ध गलत अभियान चला रहा है.

पुलिस से की थी एफआईआर दर्ज करने की मांग

एडवोकेट बाबर कादरी ने अपने आखिरी ट्वीट में लिखा था कि मैं प्रदेश पुलिस प्रशासन से शाह नजीर के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने का आग्रह करता हूं. शाह नजीर पर उन्होंने गलत दुष्प्रप्रचार फैलाने का आरोप लगाया था. उन्होंने आखिरी ट्विट में लिखा था कि शाह नजीर लोगों को इस बारे में बरगला रहे हैं कि मैं एजेंसियों के लिए कार्य करता हूं. इससे मेरी जान को खतरा होने कि सम्भावना है.

मौत से पहले का वीडियो आया सामने

टीवी चैनलों पर बहस में दिखने वाले कादरी का मर्डर से कुछ घंटे पहले भी एक वीडियो भी सामने आया है. अपने वीडियो में वह बार एसोसिएशन कश्मीर के अध्यक्ष मियां कयूम के बारे में जिक्र कर रहे थे. जानकारी के मुताबिक कयूम गिलानी के नेतृत्व वाले हुर्रियत के समर्थक हैं.

बाबर कादरी ने कयूम पर कश्मीरी युवाओं को बेवजह भड़काने, बंदूक उठाने, व अजादी के लिए उकसाने का आरोप लगाया था. साथ ही बाबर कादरी खुद भी कई बार अपने हिंदुस्तान विरोधी बयानों के लिए चर्चा में आ चुके हैं.


 

उमर अब्दुल्ला ने जताया शोक

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने इस हमले की निंदा की है. उन्होंने बोला कि यह एक दुखद घटना है. अफसोस की बात है कि चेतावनी देने के बाद भी पुलिस उन्हें सुरक्षा नहीं दे पाई.