देहरादून में पबजी के आदी एक युवक ने तनाव में की आत्महत्या

देहरादून में पबजी के आदी एक युवक ने तनाव में की आत्महत्या

देहरादून: केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) में तैनात एएसआइ के बेटे ने फांसी लगाकर जान दे दी. वह पबजी खेलने का आदी था. पुलिस के अनुसार अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि युवक ने आत्महत्या क्यों की. वह घर का इकलौता चिराग था व बीसीए करने के बाद एक कंपनी की वेबसाइट के लिए कार्य कर रहा था.

घटना वसंत विहार थाना क्षेत्र की है. एसओ नत्थीलाल उनियाल ने बताया कि ऋषि विहार निवासी अजय कुमार सीआइएसएफ में एएसआइ हैं व उड़ीसा में तैनात हैं. यहां उनका 24 वर्ष का बेटा प्रणय अपनी मां के साथ रहता था. लॉकडाउन लागू होने के बाद से वह घर से कार्य कर रहा था. स्वजनों के अनुसार वह देर रात तक पबजी खेलता था व प्रातः काल 10 से 11 बजे के बीच उठता था.

सोमवार को प्रणय दोपहर 12 बजे भी कमरे से बाहर नहीं आया तो मां उसे जगाने पहुंची. लेकिन, कमरे का दरवाजा खोलते ही उन्होंने देखा कि प्रणय चुन्नी के सहारे पंखे से लटक रहा था. चीख-पुकार सुनकर घर में एकत्र हुए पड़ोसियों ने प्रणय को फंदे से उतारा व कोरोनेशन अस्पताल ले गए. जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. घटनास्थल से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.

सुशांत की मृत्यु से था विचलित

प्रणय का मन भी सुशांत सिंह के आत्महत्या करने से विचलित था. दोस्तों ने बताया कि प्रणय दो-तीन दिन पहले सुशांत सिंह राजपूत की बात कर रहा था. उसका बोलना था कि सुशांत को आत्महत्या करने की आवश्यकता क्यों पड़ी होगी. जबकि वह अच्छा एक्टर था. प्रणय की एक बहन है, जिसकी विवाह हो चुकी है.

तनाव में की आत्महत्या

तनाव में चल रहे एक आदमी ने गांधीग्राम कल्याण आश्रम के पास स्थित अपने घर में फांसी लगा ली. इंस्पेक्टर प्रदीप बिष्ट ने बताया कि मृतक मान सिंह अरोड़ा के बारे में पता चला कि कि उनकी पत्‍नी करीब ढाई वर्ष पहले घर छोड़कर चली गई थी. इसी वजह से मान सिंह मानसिक तनाव में रहते थे. यहां वह अपने 15 वर्ष के बेटे के साथ रह रहे थे.