यूपी पुलिस ने पूर्व कैबिनेट मंत्री सहित सपा के कई नेताओं के विरूद्ध दर्ज किया केस

यूपी पुलिस ने पूर्व कैबिनेट मंत्री सहित सपा के कई नेताओं के विरूद्ध दर्ज किया केस

बलिया: यूपी पुलिस (Uttar Pradesh Police) ने पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहम्मद जियाउद्दीन रिजवी (Mohammad Ziauddin Rizvi) सहित पांच सपा नेताओं को नामजद करते हुए और 35 से 45 अज्ञात लोगों के विरूद्ध कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लागू निषेधाज्ञा के उल्लंघन तथा महामारी के प्रसार को लेकर मुकदमा दर्ज (Case Filed) किया है। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।  पुलिस के अनुसार सपा कार्यकर्ताओं द्वारा सिकंदपुर तहसील के उपजिलाधिकारी के विरूद्ध जमीन से जुड़े एक मुद्दे में जुलूस निकालने को लेकर यह मुकदमा दर्ज किया गया।



बलिया शहर कोतवाली के प्रभारी विपिन सिंह ने मंगलवार को बताया कि शहर कोतवाली में सोमवार शाम चौकी प्रभारी, सिविल लाइंस की शिकायत पर पूर्व कैबिनट मंत्री मोहम्मद जियाउद्दीन रिजवी, सपा जिलाध्यक्ष और जिला पंचायत के पूर्व चेयरमैन राजमंगल यादव व पूर्व विधायक संग्राम सिंह यादव समेत पांच नेताओं के खिलाफ नामजद और 35 से 45 अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान तथा महामारी अधिनियम की सुसंगत धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है।   उन्होंने बताया कि पुलिस मुद्दे की छानबीन कर रही है। उल्लेखनीय है कि जिले की सिकंदरपुर तहसील के उप जिलाधिकारी संगम लाल यादव के क्रियाकलाप के विरोध में समाजवादी पार्टी ने सिकंदरपुर से एक जुलूस निकाला था। जुलूस सिकंदरपुर से चलकर जिला मुख्यालय पहुंचा था तथा जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया था।

विधानसभा के सामने सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की थी
बता दें कि पिछले हफ्ते शुक्रवार को लखनऊ में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) के दाम बढ़ने पर के कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश विधानसभा (UP Vidhan Sabha) के सामने विरोध प्रदर्शन कर सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की थी। इस दौरान पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया था। इस लाठीचार्ज में समाजवादी पार्टी के करीब एक दर्जन कार्यकर्ता घायल हुए थे। वहीं, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस दौरान लगातार सपा कार्यकर्ता पेट्रोल व डीजल के बढ़े हुए दामों के विरूद्ध नारेबाजी कर रहे थे।

पुलिस ने उन पर बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज किया
जानकारी के मुताबिक,  के प्रदेश अध्यक्ष अनीश राजा के नेतृत्व में शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विधानसभा के सामने पेट्रोल व डीजल के बढ़े दामों के विरोध में प्रदर्शन करने की प्रयास की। इस दौरान पुलिस ने उन पर बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज किया। इस लाठीचार्ज में समाजवादी पार्टी के करीब एक दर्जन कार्यकर्ता घायल हुए हैं। हालांकि, विधानसभा के सामने पहुंचे सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने फौरन ही रोक लिया व बलपूर्वक विधानसभा के सामने न जाने देने का कोशिश किया।