UP: ईंट भट्टा कारोबारी की किडनैपिंग मामले में चार सिपाही सस्पेंड

UP: ईंट भट्टा कारोबारी की किडनैपिंग मामले में चार सिपाही सस्पेंड

यूपी के बाराबंकी में ईंट भट्टा कारोबारी की किडनैपिंग (Businessman Kidnapping Case) के मामले में पुलिस इंस्पेक्टर दिनेश सिंह ने 4 सिपाहियों को सस्पेंड (Policemen Suspended) कर दिया है. चारों सिपाही जगदीशपुर कोतलावी में तैनात थे. अब इस मामले की जांच एएसपी विनोद कुमार पांडे को सौंपी गई है. उनसे मामले पर विस्तृत रिपोर्ट भी तलब की गई है. बता दें कि ईंट भट्टा कारोबारी बाराबंकी के सुबेहा कस्बे के रहने वाले हैं. उनकी किडनैपिंग 30 नवंबर को हुई थी. उनकी तलाश के लिए पुलिस ने अमेठी के कई इलाकों में छापेमारी भी की थी.

कारोबारी के अपहरण (Barabanki Kidnapping Case) मामले में सुबेहा पुलिस ने राजू नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया था. उससे पूछताछ के बाद सुबेहा थाने के प्रभारी शिव नारायण फिर से जगदीशपुरा कोतलावी पहुंचे थे. जगदीशपुरा के कोतवाल टीम के साथ कटेहली गांव के रहने वाले शानू शुक्ला के घर आपेमारी करने पहुंचे. जिसके बाद शानू पुलिस के हत्थे चढ़ गया.

30 नवंबर को हुआ था कारोबारी का अपहरण

सुबेहा थाना प्रभारी अरुण कुमार ने बताया कि राजू की गिरफ्तारी से पहले सभी सिपाही थाने में ही मौजूद थे. उनका कहना है कि राजू के बयान की भनक लगते ही चारों सिपाही थाने से बिना बताए गायब हो गए. सीनियर अधिकारियों को लिखित तौर पर इसकी पिपोर्ट सौंपी गई है. बताया जा रहा है कि 30 नवंबर को राजू के साथ चारों सिपाही, रतन, राकेश सिंह, शिव दयाल और अरुण वर्मा बाराबंकी के सुबेहा पहुंचे थे. राजू ने कारोबारी भट्टा मालिक को बिजनेस के सिलसिले में रहनपुर मोड़ पर बुलाया था. जानकारी होने की वजह से कारोबारी दोपहर 2 बजे उससे मिलने पहुंच गया.

तमंचे की नोंक पर हुई किडनैपिंग

सिपाहियों समेत सभी लोगों ने कारोबारी को तमंचे की नोंक पर किडनैप कर लिया. सभी लोग उस कार को अमेठी जिले के कई इलाकों में घुमाते रहे. जिसके बाद उस पर घर से पांच लाख रुपये मांगने का दबाव बनाया गया. कारोबारी ने घर में पांच लाख रुपये न होने की बात कहकर उसे छोड़ने की विनती की. उनसे कहा कि वह पैसे बाद में दे देगा. जिसके बाद आरोपियों ने उसे धमकी दी कि शाम तक अगर उसने 5 लाख रुपये नहीं दिए तो उसे मार दिया जाएगा. इसके बाद आफाक को मुसाफिरखाना के कादूनाला के पास छोड़ दिया गया.


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।