इस वजह से पश्चिम बंगाल के गवर्नर प्रदेश सरकार के विरूद्ध धरने पर बैठे

इस वजह से पश्चिम बंगाल के गवर्नर प्रदेश सरकार के विरूद्ध धरने पर बैठे

पश्चिम बंगाल के गवर्नर प्रदेश सरकार के विरूद्ध धरने पर बैठ गए. दरअसल गवर्नर जगदीप धनखड़ गुरुवार (05-12-2019) को प्रदेश विधानसभा में पहुंचे थे. लेकिन विधानसभा पहुंचने के बाद गवर्नर जगदीप धनखड़ यहीं पर धरने पर बैठ गए. इस बारे में मीडिया से वार्ता करते हुए उन्होंने बोला कि ‘मैं यहां इस ऐतिसाहिक बिल्डिंग को देखने आया था…मैं यहां की लाइब्रेरी में जाकर देखना चाहता था. लेकिन विधानसभा बंद है। । अगर विधानसभा का सत्र नहीं चल रहा है तो इसका मतलब यह नहीं है कि विधानसभा बंद रहेगा…पूरे सचिवालय को आम दिनों में भी खुला रहना चाहिए.’

गवर्नर ने बोला कि प्रदेश का कोई ऑफिसर उनकी बात सुनने को तैयार नहीं है. गवर्नर का बोलना है कि प्रदेश सरकार किसी भी कार्य को लेकर उनसे कोई वाद-संवाद नहीं करती है. विधानसभा पहुंचने के बाद जब गेट पर ताला जड़ा मिला व उन्हें वो लाइब्रेरी में नहीं जा सके तो वो नाराज हो गए. नाराज गवर्नर विधानसभा के गेट के बाहर ही धरने पर बैठ गए.

गवर्नर के धरने पर बैठने का एक वीडियो भी सामने आया है. गवर्नर को धरने पर बैठा देख वहां मीडियाकर्मी जुट गए व फिर उन्होंने मीडिया कर्मियों को अपने धरने पर बैठने की वजह बताई.

आपको बता दें कि एक दिन पहले गवर्नर कोलकाता यूनिवर्सिटी भी पहुंचे थे. गवर्नर इस यूनिवर्सिटी के चांसलर भी हैं. यहां आने के बाद उन्होंने देखा कि यूनिवर्सिटी में वाइस चांसलर समेत अन्य वरिष्ठ ऑफिसर उपस्थित नहीं हैं व यहां तक कि रजिस्ट्रार भी यूनिवर्सिटी में मौजूद नहीं थे. जिसके बाद गवर्नर जगदीप धनखड़ वाइस चांलसर के कमरे के बाहर बैठ गए थे. चांसलर के कमरे पर ताला लगा था व वो उनके इंतजार में यहां पर बैठ गए थे.