छह दिसंबर के लिए मथुरा बनी छावनी, जमीन से लेकर आसमान तक पहरा

छह दिसंबर के लिए मथुरा बनी छावनी, जमीन से लेकर आसमान तक पहरा

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा (Mathura) में बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid Demolition) की बरसी पर सुरक्षा व्यवस्था मजबूत की गई है और जमीन से लेकर आसमान तक सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. दरअसल 6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर यहां हिन्दूवादी संगठनों ने जलाभिषेक कार्यक्रम का ऐलान किया है. जिसके बाद मथुरा की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है और किसी भी संगठन को मथुरा में कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं है. वहीं सुरक्षा के संबंध में सीआरपीएफ स्पेशल डीजी ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी और शाही ईदगाह की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. जानकारी के मुताबिक स्पेशल डीजी सीआरपीएफ मोहित अग्रवाल ने डीएम, एसएसपी व अन्य अधिकारियों के साथ बैठक कर सुरक्षा व्यवस्था और अब तक की तैयारियों पर चर्चा की. वहीं सुरक्षाकर्मियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए.

दरअसल छह दिसंबर के मद्देनजर मथुरा को एक तरह से छावनी में तब्दील कर दिया गया है. किसी वबावल की आशंका को देखते हुए मथुरा-वृंदावन क्षेत्र में भारी संख्या में पुलिस, पीएसी और भारतीय वायुसेना के जवान तैनात किए जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक तीन हजार से अधिक पुलिस, पैरामिलिट्री के जवानों को सुरक्षा में तैनात किया गया है. जानकारी के मुताबिक श्रीकृष्ण जन्माष्टमी-शाही ईदगाह पर पहले से ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है और छह दिसंबर को देखते हुए अब यहां और फोर्स बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही जिन इलाकों में मिश्रित आबादी है. वहां पर भी पुलिस और पीएसी को तैनात किया गया है. इसके अलावा ड्रोन से भी नजर रखी जा रही है.

पुलिसकर्मियों से कराई गई मॉक ड्रिल

मथुरा में कृष्णभूमि की सुरक्षा को देखते हुए शनिवार को जिलाधिकारी नवनीत चहल, एसएसपी डॉ गौरव ग्रोवर ने पुलिस लाइन ग्राउंड में अपनी मौजूदगी में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुलिस कर्मियों से मॉक ड्रिल करवाई.

सोशल मीडिया पर भी नजर

मथुरा में पुलिस की नजर सोशल मीडिया पर भ्रामक पोस्ट और कमेंट करने वालों पर भी है. लिहाजा इसको लेकर पुलिस प्रशासन शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अलर्ट पर है. बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया पर पुलिस लगातार चौकस नजर रख रही है और वहीं शुक्रवार को कुछ लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर कुछ भ्रामक पोस्ट की थी. जिसके बाद इन लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है.

एक्सप्रेस वे पर भी नजर

मथुरा और वृंदावन के शहरी इलाकों के साथ ही प्रशासन की नजर एक्सप्रेस वे और हाइवे पर भी है. जानकारी के मुताबिक आज शाम से ही हाईवे और एक्सप्रेस-वे की तरफ से आने वालों पर भी नजर रखी जाएगी. हाईवे और एक्सप्रेस-वे के लिए पुलिस अफसरों की तैनाती की गई.


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।