महानवमी पर रामनवमी की बधाई देने वाले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर BJP का तंज

महानवमी पर रामनवमी की बधाई देने वाले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर BJP का तंज

शारदीय नवरात्र में गुरुवार को महानवमी पर्व पर बधाई देना समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को काफी भारी पड़ रहा है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दरअसल गुरुवार को महानवमी पर रामनवमी की बधाई का ट्वीट कर दिया। अखिलेश यादव के साथ ही कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा ने भी आज रामनवमी की बधाई दी है। बेहद ट्रोल होने के बाद अखिलेश यादव के साथ आनंद शर्मा ने बाद में संशोधित ट्वीट किया। दोनों नेताओं के ज्ञान पर भाजपा के नेताओं ने उनके ऊपर जोरदार तंज कसा।

रामनवमी या महानवमी की बधाई पर गुरुवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा के एक ट्वीट पर बवाल मचा हुआ है। इन दोनों नेताओं ने आज महानवमी पर लोगों को रामनवमी की बधाई दे दी। अखिलेश यादव तथा आनंद शर्मा ने गलती का अहसास होने तक फिर संशोधित ट्वीट किया। इतने समय में तो भाजपा के नेताओं ने इन दोनों पर जोरदार तंज कसा।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज ट्वीट करके कहा कि आपको और आपके परिवार को रामनवमी की अनंत मंगलकामनाएं। अखिलेश ने जैसे ही ट्वीट किया, वैसे ही लोगों ने ट्रोल करना शुरू कर दिया। इसके थोड़ी देर बाद अखिलेश ने ट्वीट को हटाकर नया ट्वीट किया- आपको और आपके परिवार को महानवमी की अनंत मंगलकामनाएं।


अखिलेश यादव के महानवमी पर रामनवमी की बधाई देने के ट्वीट पर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तथा पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने तंज कसा। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा-हे राम, अपने आप को हिन्दू कहने वाले इन लोगों को रामनवमी और महानवमी में फर्क ही नहीं पता। भगवान राम इन्हें सद्बुद्धि दें।

अखिलेश यादव के ट्वीट पर भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाइ ने तीखी प्रतिक्रिया दी। भाजपा यूपी हैंडल से ट्वीट किया गया- जिस अखिलेश यादव को यह तक नहीं पता कि रामनवमी और महानवमी में क्या अंतर है, वो राम और परशुराम की बात करते हैं। जनता को मत पहनाइए टोपी, वह आप पर ज्यादा अच्छी लगती है। भाजपा नेता अमित मालवीय ने कहा कि रामनवमी पर्व चैत्र मास में मनाया जाता है, शारदीय नवरात्रों में महानवमी होती है, जो मां दुर्गा की आराधना का दिन है, इसके बाद दशहरा, यानी जिस दिन भगवान राम रावण का वध करते हैं, आता है। उन्होंने कहा कि यही होता है जब कार सेवकों पर गोली चलाने वाले, चुनाव आते ही हिंदू बनने का ढोंग करने लगते हैं। 


अखिलेश यादव के करेक्शन करने के बाद भी यूजर्स उनके पुराने पोस्ट का स्क्रीनशॉट उनके कमेंट में ही भेजते रहे। एक ने लिखा, 'पहिलका काहे मिटा दिए सुल्तान। एक और ने लिखा, 'वोट बैंक के खातिर मंदिरों के चक्कर लगाने की जगह हिंदु धर्म और रीति रिवाजों के बारे में अच्छे से जानकारी हासिल की होती तो शायद ऐसी गलत न करते अखिलेश यादव जी।

आनंद शर्मा ने काफी देर बात हटाया ट्वीट

अखिलेश यादव ने तत्काल रामनवमी की मंगलकामनाएं वाला ट्वीट हटा लिया है, लेकिन पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने काफी देर बात अपना ट्वीट हटाया।

आनंद शर्मा ने ट्वीट किया रामनवमी के शुभअवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। 


सीएम योगी का निर्देश- जमाखोरों व मिलावटखोरों के खिलाफ कार्रवाई करें, नियंत्रण में आएगी महंगाई

सीएम योगी का निर्देश- जमाखोरों व मिलावटखोरों के खिलाफ कार्रवाई करें, नियंत्रण में आएगी महंगाई

उत्तर प्रदेश में खाद्य तेलों के साथ अन्य उत्पादों के तेजी से बढ़ते दाम पर अब सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद गंभीर हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोक भवन में उच्च सतरीय टीम -09 के साथ बैठक के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने टीम को सख्त एक्शन लेने का निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सब्जियों, खाद्य तेलों और दाल के मूल्य में अचानक तेजी देखी जा रही है। भारत सरकार ने इस संबंध में स्टॉक लिमिट भी तय की है। इसी कारण जमाखोरों के खिलाफ छापेमारी कर सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि सभी जगह मूल्य नियंत्रित रहें। इसके लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएं। इतना ही नहीं त्योहारों के दृष्टिगत खाद्य सामग्री में मिलावटखोरी की हर शिकायत का गंभीरता से संज्ञान लेते हुए सख्त कार्रवाई की जाए।


जनपदों में 28 से दीपावली मेला

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश के सभी जनपदों में 28 अक्टूबर से दीपावली मेले का आयोजन प्रारंभ हो रहा है। दीपावली मेले में स्थानीय शिल्पकला, व्यंजन आदि उत्पादों को प्रोत्साहित किया जाए। इन मेलों में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सहभागिता होगी। अधिकाधिक जनता को मेले से जोडऩे का प्रयास हो।

मौसम जनित बीमारियों का तेजी से हो इलाज


मुख्यमंत्री ने कहा कि डेंगू, कॉलरा, डायरिया मलेरिया सहित वायरल से प्रभावित जनपदों में विशेष सतर्कता बरती जाए। एटा, मैनपुरी और कासगंज में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम पहुंच गई है, विशेषज्ञों की यह टीम स्थानीय चिकित्सकों का मार्गदर्शन करेगी। अस्वस्थ लोगों के उपचार के लिए सभी अस्पतालों में प्रबंध किए गए हैं। सर्विलांस को बेहतर करते हुए हर एक मरीज के स्वास्थ्य की सतत निगरानी की जाए। बचाव के लिए व्यापक स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और फॉगिंग का कार्य सतत जारी रखें। सभी जगह पर निगरानी समितियों को एक्टिव करने की जरूरत है।