अखिलेश यादव ने निशाना साधते हुये कहा- बीजेपी के राज में बुरी तरह लुटे-पिटे किसान और व्यापारी

अखिलेश यादव ने निशाना साधते हुये कहा- बीजेपी के राज में बुरी तरह लुटे-पिटे किसान और व्यापारी

मुजफ्फरनगर के सिसौली में गन्ना आपूर्ति न होने पर आत्महत्या करने वाले किसान के परिवार की समाजवादी पार्टी ने एक लाख रुपये की मदद की है. सपा ने प्रदेश सरकार से पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये सहायता देने की मांग की है. सपा अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बोला है कि बीजेपी की गलत नीतियों के चलते उसके पिछले 6 वर्षों के कार्यकाल में किसान और व्यापारी बुरी तरह लुटे-पिटे हैं. किसान आत्महत्या कर रहे हैं व बीजेपी अपनी हवाई उपलब्धियों का जश्न मना रही है. मानवीय संवेदना के साथ ऐसा क्रूर मजाक बीजेपी नेतृत्व ही कर सकता है.

अखिलेश यादव ने बोला कि प्रदेश के गन्ना मंत्री के विधानसभा क्षेत्र से सटे बुढ़ाना विधानसभा क्षेत्र के सिसौली कस्बे में 55 वर्षीय किसान ओमपाल का गन्ना खतौली चीनी मिल ने लेने से इन्कार कर दिया था. उसके 6 बच्चे हैं, घर की माली हालत बेकार है. लॉकडाउन में हालात व बिगड़ी तो अवसाद में आकर उसने आत्महत्या कर ली. ओमपाल का तीन बीघा गन्ना खेत में खड़ा है. उन्होंने बोला कि प्रदेश के किसानों का चीनी मिलों पर 20 हजार करोड़ रुपये बकाया है. 
किसान अपनी ट्रैक्टर ट्रॉली में गन्ना लिए मिल गेट के बाहर लाइन में खड़े-रहने को विवश हैं. खेत में खड़े गन्ने को जलाने के अतिरिक्त किसान के पास दूसरा विकल्प नहीं है क्योंकि चीनी मिलें अपने क्रय केन्द्र उखाड़ रही हैं. उन्होंने कहा, किसान अपनी बर्बादी की कहानी किससे कहें, पीएम और सीएम को केवल घोषणाएं करके जिम्मेदारियों से मुक्त हो जाते हैं.

किसान किस प्रदेश में गन्ना लेकर जाएं

अखिलेश ने कहा, अभी दो दिन भी नहीं गुजरे, केंद्र-राज्य सरकारो ने किसानों के लिए एक देश- एक मार्केट खोल दिया है. उन्होंने सवाल किया है कि अब किसान अपना गन्ना किस प्रदेश में लेकर जाएगा ? गेहूं लिए किसान मारा-मारा फिर रहा है. सरकार की अनदेखी से बिचौलिए औने-पौने दाम में उसकी फसल खरीद कर लूट रहे हैं. बीजेपी सरकारें किसान को बहकाने के लिए नए-नए एलान करती है. सीएम जब अपने प्रदेश के किसानों को कुछ दे नहीं पा पा रहे हैं तो उसे दूसरे प्रदेश में ढकेल कर आत्मनिर्भरता के नाम पर खुद चाहे जियो या मरो का पाठ पढ़ा रहे है.

रालोद भी मुखर, केंद्रीय राज्यमंत्री और गन्ना मंत्री पर साधा निशाना 

मुजफ्फरनगर के सिसौली में किसान ओमपाल सिंह की आत्महत्या पर राष्ट्रीय लोकदल ने सरकार को घेरा है. रालोद के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री संजीव बालियान और गन्ना मंत्री सुरेश राणा पर निशाना साधा है. दिवंगत किसान नेता चौधरी महेन्द्र सिंह टिकैत जिस सिसौली के रहने वाले थे, वहीं के किसान की आत्महत्या पर पॉलिटिक्स गरमा गई है. सिसौली, संजीव बालियान के संसदीय क्षेत्र में आती है. 

गन्ना मंत्री सुरेश राणा का थाना भवन विधानसभा क्षेत्र भी पड़ोस में है. सपा के बाद रालोद भी इस आत्महत्या पर मुखर है. जयंत चौधरी ने ट्वीट किया, ओमपाल सिंह सरकारी अव्यवस्था, किसान की अनदेखी के आगे पराजय गए. 7 बीघा गन्ना खड़ा है. मिल की पर्ची आई नहीं. जब कोल्हू ने गन्ना लेने से इन्कार किया तो आत्महत्या कर ली. उन्होंने कहा, सिसौसी को किसान आंदोलन की राजधानी बोला जाता है. केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री व प्रदेश के गन्ना मंत्री का क्षेत्र है लेकिन कोई कार्य नही आया.