UP BJP अध्यक्ष पद से स्‍वतंत्र देव सिंह ने दिया इस्तीफा,3 दिन में मिल सकता है उत्तर प्रदेश भाजपा को नया अध्यक्ष

UP BJP अध्यक्ष पद से स्‍वतंत्र देव सिंह ने दिया इस्तीफा,3 दिन में मिल सकता है उत्तर प्रदेश भाजपा को नया अध्यक्ष

लखनऊ:  

योगी गवर्नमेंट में मंत्री स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev singh) ने यूपी बीजेपी के अध्यक्ष पद से बुधवार को इस्तीफा दे दिया उनका इस्तीफा बीजेपी में एक आदमी एक पद के फॉर्मूले की वजह से हुआ है  सूत्रों के अनुसार उन्होंने अपना इस्तीफा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा को भेज दिया है उल्लेखनीय है कि उनके प्रदेश अध्यक्ष का कार्यकाल 16 जुलाई को खत्म हो गया था स्वतंत्र देव सिंह के इस्तीफे के बाद यूपी बीजेपी के नए  अध्यक्ष कौन होंगे, इसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है वहीं, पार्टी सूत्रों का बोलना है कि अगले 3 दिनों के अंदर नए प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा कर दी जाएगी

3 दिन में मिल सकता है उत्तर प्रदेश भाजपा को नया अध्यक्ष
 स्वतंत्र देव सिंह के इस्तीफे के बीच 29 से 31 जुलाई तक चित्रकूट में होने वाली तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग शिविर में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन मंत्री बीएल संतोष और मुख्यमंत्री योगी के साथ मंत्रियों को भी बुलाया गया है इस दौरान गवर्नमेंट और संगठन दोनों एक मंच पर रहेंगे लिहाजा, बताया जा रहा है कि यहीं पर यह तय हो जाएगा कि यूपी बीजेपी का अगला अध्यक्ष कौन होगा 

भाजपा सूत्रों का दावा है कि नेतृत्व ने उत्तर प्रदेश का नया अध्यक्ष चुन लिया है इसकी घोषणा ट्रेनिंग क्लास कैंप में की जा सकती है निवर्तमान बीजेपी उत्तर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के कार्यकाल को 3 वर्ष पूरे हो गए हैं उत्तर प्रदेश विधानसभा 2022 में  बीजेपी की बहुत बढ़िया जीत के पुरस्कार के रूप में उन्हें योगी गवर्नमेंट में कैबिनेट मंत्री का पद दिया गया है पार्टी के एक आदमी एक पद के सिद्धांत के मुताबिक अब प्रदेश में प्रदेश अध्यक्ष के पद में परिवर्तन होना है

ब्राह्मण या दलित चेहरे को दिया जा सकता है मौका
2024 में लोकसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी इस बार संगठन की कमान किसी ब्राह्मण या दलित चेहरे को सौंप सकती है यदि ब्राह्मण को अध्यक्ष पद दिया गया तो डाक्टर दिनेश शर्मा, सुब्रत पाठक, हरीश द्विवेदी, दिनेश उपाध्याय, गोविंद नारायण शुक्ल, ब्रज बहादुर शर्मा के नामों की चर्चा हो रही है वहीं, एक चर्चा है कि पार्टी दलित चेहरे पर भी विचार कर सकती है पार्टी सूत्र बताते हैं कि इस बार जिस तरह से बीएसपी को जाटव वोट बैंक बीजेपी को मिला है इसे बनाए रखने के लिए एक दलित चेहरे को उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी जा सकती है दलित समाज से जो नाम चर्चा में है उनमें सांसद डाक्टर रामशंकर कठेरिया, केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर, सांसद विनोद सोनकर शामिल हैं ओबीसी से दौड़ में तीन केंद्रीय मंत्री बीएल वर्मा, भूपेंद्र चौधरी और संजीव बालियान को भी दौर में बताया जा रहा है वैसे बीजेपी हमेशा ही सरप्राइज देने के लिए जानी जाती है  जिन नामों की चर्चा होती है, वह गायब हो जाता है और कोई अनजाना चेहरा सामने आ जाता है लिहाजा, यह तो घोषणा के बाद ही साफ हो पाएगा कि बीजेपी किस पर भरोसा करती है 





.