शादी की सालगिरह के अगले दिन भुवनेश्वर कुमार को मिला ‘अनमोल तोहफा’, खुशी में सब भूले गेंदबाज

शादी की सालगिरह के अगले दिन भुवनेश्वर कुमार को मिला ‘अनमोल तोहफा’, खुशी में सब भूले गेंदबाज

भारत के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार घर में नन्नी किलकारियां गूंदी है। गेंदबाज की पत्नी नूपुर कुमार ने बुधवार को अपनी पहले बच्चे का स्वागत किया। भुवनेश्वर की पत्नी ने बुधवार को दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया। भुवनेश्वर और नूपुर की शादी 23 नवंबर 2017 को मेरठ में एक समारोह में हुई थी। उनकी चौथी शादी की सालगिरह मनाने के ठीक एक दिन बाद उनकी बेटी के जन्म की खबर आई।

क्रिकेटर भुवनेश्वर कुमार बेटी के पिता बने

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार पिता बन गए हैं। भुवनेश्वर की पत्नी नूपुर ने बुधवार को दिल्ली के एक निजी अस्पताल में बेटी को जन्म दिया। मेरठ जिला क्रिकेट एसोसिएशन (एमडीसीए) के कोषाध्यक्ष राकेश गोयल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को भुवनेश्वर कुमार की पत्नी ने बेटी को जन्म दिया। फिलहाल दोनों पूरी तरीके से स्वस्थ हैं। भुवनेश्वर के बृहस्पतिवार को मेरठ स्थित आवास पर आने की उम्मीद है। गोयल के अनुसार मंगलवार को नूपुर को दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। क्रिकेटर की शादी की सालगिरह के अगले दिन उनके घर बच्ची का जन्म हुआ है। 

मुश्किल दौर से गुजर रहे थे भुवनेश्वर कुमार 

भुवनेश्वर कुमार न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत की 3 मैचों की T20 श्रृंखला का हिस्सा थे। सीनियर वह मैच के लिए रविवार को कोलकाता में थे जहां न्यूजीलैंड के खिलाफ अंतिम टी20 खेला जा रहा था। भुवनेश्वर कुमार के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। भुवनेश्वर ने 2021 में क्रिकेट के मैदान पर और बाहर एक कठिन दौर का सामना किया है। मेरठ के तेज गेंदबाज ने मई में अपने पिता को लीवर कैंसर के कारण खो दिया।

सनराइजर्स हैदराबाद की पारी

भुवनेश्वर 2021 में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेले। यहा उनका सफर साधारण था क्योंकि उन्होंने 11 मैचों में सिर्फ 6 विकेट लिए थे। खराब फॉर्म के बावजूद यूएई में टी 20 विश्व कप के लिए सीनियर पेसर को चुना गया था और वह केवल एक मैच खेलने में सफल रहे। पाकिस्तान के खिलाफ 3 ओवर में 25 रन देने के बाद, भुवनेश्वर को बाहर कर दिया गया और विश्व कप में प्लेइंग इलेवन में नहीं लिया गया।


IND vs NZ: मुंबई में जन्मा ये गेंदबाज, भारतीय बल्लेबाजों को कर रहा है परेशान

IND vs NZ: मुंबई में जन्मा ये गेंदबाज, भारतीय बल्लेबाजों को कर रहा है परेशान

भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में दूसरा टेस्ट मैच खेला जा रहा है. भारत ने दिन की शुरुआत चार विकेट के नुकसान पर 221 रनों के साथ की थी. उम्मीद थी कि भारत शुरुआती घंटे में विकेट बचाकर चलेगा और बड़े स्कोर की तरफ बढ़ेगा लेकिन कीवी टीम के गेंदबाज एजाज पटेल (Ajaz Patel) ने ऐसा नहीं होने दिया. उन्होंने दिन के दूसरे ओवर ही में ही भारत को दो बड़े झटके दे दिए और इसी के साथ वो ऐसा काम कर गए जो आज तक कोई भी कीवी स्पिनर भारत में नहीं कर पाया था. भारत ने अभी तक अपने छह विकेट खोए हैं और सभी के सभी विकेट बाएं हाथ के इसी स्पिनर ने लिए हैं.

एजाज ने दिन के दूसरे ओवर में पहले ऋद्धिमान साहा को पवेलियन भेजा. एजाज ने साहा को एलबीडब्ल्यू किया और इसी के साथ उन्होंने अपने पांच विकेट पूरे किए और इतिहास रच दिया. एजाज भारत में किसी टेस्ट मैच की पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले न्यूजीलैंड के पहले स्पिनर बन गए हैं. अगली ही गेंद पर उन्होंने रविचंद्रन अश्विन को शानदार तरीके से बोल्ड किया. उनसे पहले जीतन पटेल ने भारत में किसी टेस्ट मैच की पहली पारी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिनर थे. जीतन ने 2012 के भारत दौरे पर हैदराबाद में खेले गए टेस्ट मैच की पहली पारी में चार विकेट लिए थे.

सात मैचों में बड़ी उपलब्धि

एजाज का यह सातवां टेस्ट मैच है. इससे पहले वे कानपुर टेस्ट में भी खेले थे लेकिन वहां अपनी फिरकी का ज्यादा कमाल नहीं दिखा पाए थे. लेकिन मुंबई में उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को खासा परेशान कर रखा है. एजाज न्यूजीलैंड के लिए एशिया में सबसे ज्यादा फाइव विकेट हॉल हासिल करने वाले चौथे गेंदबाज बन गए हैं. एजाज का यह एशिया में तीसरा पांच विकेट हॉल है. इस मामले में वह टिम साउदी के बराबर हैं लेकिन साउदी ने उनसे ज्यादा मैच खेले हैं. साउदी ने 13 मैचों में ये काम किया. पूर्व कप्तान डेनियल विटोरी सबसे आगे हैं जिन्होंने एशिया में खेले 21 टेस्ट मैचों में आठ बार पांच या उससे ज्यादा विकेट लिए. दूसरे नंबर पर महान सर रिचार्ड हेडली हैं जिन्होंने 13 मैचों में पांच पार ये काम किया.

मुंबई में जन्मे हैं एजाज

एजाज का मुंबई से अलग की लगाव लगता है. उनका जन्म भी इसी शहर में हुआ था. एजाज का जन्म 21 अक्टूबर 1988 को मुंबई में ही हुआ था. जब वह आठ साल के थे तब उनका परिवार न्यूजीलैंड जाकर बस गया था और तब से वह इसी देश के वासी हैं. अब वह अपनी जन्मभूमि पर भारत को ही मात देने के लिए प्रतिबद्ध हैं.