डेब्यू के दिन कमरे में जाकर जमकर रोया था यह क्रिकेटर

डेब्यू के दिन कमरे में जाकर जमकर रोया था यह क्रिकेटर

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) इन दिनों क्रिकेट से दूर हैं। वर्ष 2015 के बाद से वह भारतीय टीम से बाहर हैं वहीं वह पिछले आईपीएल (IPL) सीजन का भी भाग नहीं थे। मनोज तिवारी ने हाल ही में एक साक्षात्कार में अपने टेस्ट डेब्यू के बारे में बात करते हुए बताया कि जिस दिन उन्हें डेब्यू करना था वह अपने होटल के कमरे में जाकर बहुत रोए थे। इस घटना को लगभग 13 वर्ष हो गए हैं लेकिन आज भी उन्हें  एक अफसोस है।

डेब्यू न करने पर रोए थे मनोज तिवारी
मनोज तिवारी ने स्पोर्ट्स कीड़ा से वार्ता में बताया कि वर्ष 2007 में उन्हें बांग्लादेश के विरूद्ध टेस्ट डेब्यू करने का मौका मिला था। वह टीम के साथ बांग्लादेश तो गए लेकिन मैच में भाग नहीं ले पाए। फील्डिंग के एक्सरसाइज के दौरान उनका कंधा डिस्लोकेट हो गया था व वह भाग नहीं ले पाए थे। मनोज तिवारी ने कहा, 'मैं शानदार फॉर्म व रिदम में था लेकिन मैं इंजरी के कारण मैच खेल नहीं पाया। उस दिन मैं होटल रूम गया व बहुत रोया था। '

ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध किया था डेब्यू
इसके बाद वर्ष 2008 में फरवरी में मनोज तिवारी को आखिरकार ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध डेब्यू का मौका मिला। ऑस्ट्रेलिया में हो रही टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया सीरीज के लिए उन्हें टीम में मौका दिया गया। हालांकि ब्रिस्बेन में अपने डेब्यू मैच में ह महज दो रन बनाकर ब्रेट ली की गेंद पर आउट हो गए थे। इसके बाद उन्हें वापसी करने में तीन वर्ष लग गए। वर्ष 2011 में वह वेस्टइंडीज के चेन्नई वनडे के हीरो साबित हुए थे। तिवारी ने 2011 में चेन्‍नई में वेस्‍टइंडीज के विरूद्ध नाबाद 104 रन की विजयी पारी खेली थी। हालांकि इसके बाद अगले ही मैच में उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। मनोज तिवारी ने बोला कि मैंने कभी सोचा नहीं था कि अपने देश के लिए शतक बनाने के बाद व मैन ऑफ द मैच जीतने के बाद मैं अगले 14 मैचों के लिए बाहर हो जाऊंगा। तिवारी को टीम इंडिया (Team India) की तरफ से वापस खेलने का मौका आठ महीने बाद मिला था।

2015 से टीम में बाहर हैं मनोज तिवारी
इसके बाद भारत 2012 में श्रीलंका दौरे पर गई थी। उन्‍होंने उस मैच में 21 रन बनाए थे व फिर इसके बाद अर्धशतक जड़ा था। हालांकि इसके बाद उन्‍हें फिर से दो वर्ष के लिए टीम से बाहर कर दिया गया। 2015 में जिम्‍बाब्‍वें के विरूद्ध वनडे सीरीज में उनकी वापसी हुई। इसके बाद से वह टीम से बाहर ही हैं।

मनोज तिवारी ने अपने वनडे करियर में 12 मैच खेले जिसमें उन्होंने 26.09 की औसत से 287 रन बनाए। वहीं उन्होंने तीन टी20 मैच भी खेले। वर्ष 2015 के बाद से वह टीम में वापसी नहीं कर पाए हैं वहीं 2018 के बाद से आईपीएल भी नहीं खेले हैं।