30 वर्षीय भुवनेश्वर कुमार पर बनेगी बायोपिक

30 वर्षीय भुवनेश्वर कुमार पर बनेगी बायोपिक

इन दिनों बॉलीवुड में खिलाड़ी की बायोपिक का क्रेज है फैन्स इन्हें पसंद भी कर रहे हैं। फैन्स ने सचिन तेंदुलकर व महेंद्र सिंह धौनी की बायोपिक को बहुत ज्यादा तारीफ व प्यार दिया है। भारतीय टीम में ऐसे कई क्रिकेटर हैं, जिनकी बायोपिक पर कार्य होने कि सम्भावना है। इन क्रिकेटरों से बायोपिक को लेकर अक्सर सवाल होते रहते हैं। बायोपिक को लेकर सवाल करते समय पहले यही पूछा जाता है कि आप किस बॉलीवुड एक्टर को अपना भूमिका निभाते हुए देखना चाहेंगे। भुवनेश्वर कुमार से हाल ही में पुछा गया तो उन्होंने एक बॉलीवुड एक्टर का नाम लिया है। इस बीच भुवनेश्वर ने एक वेबिनार में भाग लिया था। इस वेबिनार में उनसे बायोपिक को लेकर सवाल पुछा गया था। जब भुवनेश्वर ये सवाल पुछा गया कि वो अपनी बायोपिक में किस एक्टर को अपना भूमिका निभाते हुए देखना चाहेंगे तो उन्होंने राजकुमार राव का नाम लिया। उन्होंने बोला, " किसी ने सुझाव दिया था कि राजकुमार राव शारीरिक बनावट के मुद्दे में मेरे साथ बहुत समानता रखते हैं। मुझे लगता है कि मेरी बायोपिक में वह मेरा भूमिका निभा सकते हैं।

30 वर्षीय भुवनेश्वर कुमार पिछले कुछ समय से चोटों से जूझ रहे थे। इसी वजह से वह पिछले वर्ष कई सीरीज से बाहर थे। जनवरी में हर्निया की सर्जरी से गुजरे व न्यूजीलैंड दौरे से बाहर रहे। आईपीएल 2020 से उन्हें क्रिकेट मैदान पर वापसी की उम्मीद थी, लेकिन कोरोना की वजह से यह टूर्नामेंट अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। इससे पहले उन्हें दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध तीन मैचों की वनडे सीरीज में शामिल किया गया था। इस सीरीज का पहला मैच बारिश की वजह से नहीं हुआ था। इसके बाद कोरोना की वजह से बचे हुए दोनों वनडे मैचों को रद्द कर दिया गया था। वैसे भुवनेश्वर लॉकडाउन में घर में परिवार के साथ समय बिता रहे हैं। हालांकि, अब भुवनेश्वर पूरी तरफ से फिट हैं व मैदान पर वापसी का इंतजार कर रहे हैं।

भुवनेश्वर कुमार ने अपने भविष्य पर बोला, "मैं मेरठ की एक अकादमी में खोलना चाहता हूं, क्योंकि इसने मुझे बहुत कुछ दिया है। मैं वहां के लोगों को वापस देना चाहता हूं। यह कुछ ऐसा है, जो मैं निश्चित रूप से करने जा रहा हूं। भुवनेश्वर ने हिंदुस्तान के लिए 21 टेस्ट, 114 वनडे व 43 टी-20 मैच खेलने वाले भुवनेश्वर ने बोला, " आप जब युवा होते हैं, आप क्रिकेट से परे कुछ नहीं सोचते सकते। आप जैसे-जैसे बड़े होते जाते हैं, आपको सीखने को मिल जाता है कि क्रिकेट आपकी यात्रा का एक भाग है।