सूखी खांसी को चुटकी में गायब करेगा अदरक व नमक का यह घरेलु नुस्खा

सूखी खांसी को चुटकी में गायब करेगा अदरक व नमक का यह घरेलु नुस्खा

सूखी खांसी बेहद खतरनाक होती है. खांसते-खांसते सारे पेट में व पसलियों में दर्द होने लगता है. खांसी वैसे तो जुकाम व फ्लू के साइड इफेक्ट से होती है, लेकिन कई लोग मौसम बदलने की वजह से ही इसकी गिरफ्त में आ जाते हैं. अगर आप लंबे समय से सूखी खांसी से परेशान हैं, तो यहां कुछ घरेलू नुस्खे बताए जा रहे हैं जो झट से खांसी को समाप्त कर देंगे.



शहद
सूखी खांसी में शहद रामबाण उपचार है. यह न सिर्फ गले की खराश को दूर करता है बल्कि गले के इंफेक्शन को भी अच्छा कर देता है. इसके लिए 2 चम्मच शहद को आधे गिलास गुनगुने पानी में मिलाएं व पिएं. प्रतिदिन इस ढंग को अपनाने से सूखी खांसी में आराम मिलेगा. इसके अतिरिक्त नियमित रूप से गरम पानी में नमक मिलाकर गरारे करें.

पीपल की गांठ
पीपल की गांठ को भी सूखी खांसी में फायदेमंद माना गया है. यह एक आजमाया हुआ नुस्खा है, जिससे सूखी खांसी को अच्छा करने में मदद मिली है. इसके लिए एक पीपल की गांठ को पीस लें व उसे एक चम्मच शहद में मिलाकर खा लें. प्रतिदिन ऐसा ही करें. इससे कुछ ही दिन में सूखी खांसी अच्छा हो जाएगी.

अस्थमा में खतरनाक है कफ सिरप पीना

अदरक व नमक
अदरक से भी सूखी खांसी में आराम मिलता है. इसके लिए अदरक की एक गांठ को कूटकर उसमें एक चुटकी नमक मिला लें व दाढ़ के नीचे दबा लें. उसका रस धीरे-धीरे मुंह के अंदर जाने दें. 5 मिनट तक उसे मुंह में रखें व फिर कुल्ला कर लें.

चेजिंग वेदर में खांसी से परेशान, ये चीजें देंगी आराम


मुलेठी की चाय
मुलेठी का चाय पीने से भी सूखी खांसी में आराम मिलता है. इसे बनाने के लिए, दो बड़ी चम्मच मुलैठी की सूखी जड़ को एक मग में रखें व इस मग में उबलता हुआ पानी डालें. 10-15 मिनट तक भाप लगने दे. दिन में दो बार इसे लें.

हल्दी वाला दूध
हल्दी वाला दूध पीने से भी आराम मिलता है. इसके लिए 1 गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर प्रतिदिन पिएं. इसके अतिरिक्त भाप लेने से भी बहुत ज्यादा लाभ होता है.इसके लिए गरम पानी लें व अपने सिर पर एक तौलिया डालकर गरम पानी के ऊपर मुंह ले जाकर भाप लें.

काली मिर्च व शहद
काली मिर्च व शहद के मिलावट से भी सूखी खांसी दूर होती है. 4-5 काली मिर्च पीसकर शहद में मिलाकर खा लें. सप्ताह में प्रतिदिन ऐसा करें. कुछ दिन में ही आराम नजर आएगा.