दो तरह की होती है पेनकिलर, जाने कैसे करती है कार्य

दो तरह की होती है पेनकिलर, जाने कैसे करती है कार्य

सिर दर्द, बदन दर्द या फिर पेट दर्द हुआ नहीं कि लोग दर्द से छुटकारा पाने के लिए तुरंत ही पेन किलर्स लेलेते हैं। भले ही उन्हें इसके नुकसान के बारे में पता होगा। पर अपने दर्द व उस समय की तकलीफ को मिटाने के लिए आप पेनकिलर का सेवन करते हैं। इसी के कुछ साइड इफेक्ट्स हम आपको बताने जा रहे हैं। कुछ लोग तो इसके इतने आदि हो जाते हैं कि चिकित्सक से भी सलाह नहीं लेते हैं। तो हम भी आपको बता देते हैं कि पैन कातिल के क्या नुकसान हो सकते हैं।

दो तरह की होती है पेनकिलर
दर्द निवारक दवा दो पक्रार की एक नशीली व दूसरी गैर नशीली होती है। जो लोग नशीली दर्द निवारक दवा का ओवर डोज लेते हैं, उनकी मृत्यु की आसार भी बढ़ जाती है। ऐसे में किसी भी दवा का सेवन बिना चिकित्सक की सलाह लिए ना करें।

कैसे कार्य करती है पेन कातिल मेडिसिन
पेन किलर्स का ओवरडोज आपके मुख्य तंत्रिका तंत्र का प्रभावित कर सकता है (Painkiller Effects)। तंत्रिका तंत्र शरीर की सभी सूचनाओं को मस्तिष्क तक पहुंचाता है। पेन कातिल तंत्रिका तंत्र व मस्तिष्क के बीच के दर्द के सिग्नल को ब्लॉक कर देती है, जिससे दिमाग को दर्द का अनुभव नहीं होता है। कई बार इसके अधिक सेवन से लिवर भी बेकार हो जाता है।

पेन कातिल के सेवन से होने वाले नुकसान
जब आप दर्द निवारक दवाओं का सेवन अधिक करने लगते हैं, तो धीरे-धीरे इससे छोटी आंत की झिल्ली निर्बल होने लगती है, जिससे आंतों में घाव हो जाता है। पेट संबंधी बीमारियों के होने की आसार भी बढ़ जाती है। इन दवाओं में एसिटामिनोफेन होता है, जो लिवर व किडनी को नुकसान पहुंचाता है। अल्सर, दिल से संबंधित समस्याएं जैसे दिल की धड़कन तेज होना, मांसपेशियों में जकड़न आदि होने की संभावना रहती है।

उपाय
1 गर्म दूध में हल्दी डालकर पिएं। इससे बदन दर्द, मांसपेशियों में होने वाला दर्द कम होता है। हर दिन अभ्यास करने की आदत डालें। इससे हल्के-फुल्के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।

2 दिनचर्या को सुधारें। जगने-सोने, खाने-पीने की आदत को सुधारें। कई बार नींद पूरी नहीं होने पर भी सिर दर्द होता है। खाली पेट रहने या बाहर का उल्टा-सीधा अधिक खाने से पेट दर्द होने लगता है।

3 सिर दर्द, आंखों की थकान, गर्दन में तनाव, पीठ की मांसपेशियों में तनाव कार्यालय में लगातार बैठकर कार्य करने से भी होता है। एक ही अवस्था में ना बैठें। तनाव कम लें। संतुलित आहार लें।

4 अदरक के सेवन से सिर दर्द से बच सकते हैं। हां, जब कोई भी दर्द अधिक हो, तो फिर चिकित्सक के पास तुरंत जाएं।