मुसाफिरों की सहुलियत के लिए रेलवे ने उठाए कई कदम

मुसाफिरों की सहुलियत के लिए रेलवे ने उठाए कई कदम

मुसाफिरों की सहुलियत के लिए कई कदम उठाए हैं। पिछले एक दशक में रेलवे ने ट्रेनों में सीट से लेकर सफाई व यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए कई सुधार किए। इसके अतिरिक्त औनलाइन टिकट बुकिंग सिस्टम को भी मजबूत बनाया गया है। फर्जी एजेंट्स पर रोक लगाई गई। आम यात्रियों को टिकट के लिए कड़ी मशक्कत न करनी पड़े, इसके लिए भी ठोस व्यवस्था की गई।

रेलवे ने टिकट बुकिंग के लिए भिन्न-भिन्न विंडो के हिसाब से श्रेणी के समय में भी तय कर रखा है। जनरल टिकट बुकिंग के लिए IRCTC की वेबसाइट से प्रातः काल 8 बजे से बुकिंग की जा सकती है। अगर आप भी औनलाइन टिकट बुकिंग कराने की सोच रहे हैं तो जरूर इन नियमों को जान लें।

तत्काल टिकट के क्या हैं नियम?
IRCTC की वेबसाइट प्रातः काल 8 बजे खुलती है। लेकिन, यह सिर्फ सामान्य टिकट बुकिंग के लिए होती है। वहीं, तत्काल के लिए समय अलग हैं। हालांकि, इसमें भी AC व नॉन AC टिकट बुकिंग का समय अलग है। तत्काल में एसी क्लास के लिए टिकट बुक कराने के लिए 10 बजे से बुकिंग प्रारम्भ होती है। वहीं, नॉन-एसी टिकटों की बुकिंग इसके एक घंटे बाद यानी 11 बजे से प्रारम्भ होती है। बुकिंग प्रारम्भ होने के आधे घंटे तक अधिकृत एजेंट तत्काल टिकट नहीं बुक कर सकते हैं।

एक उपभोक्ता बुक करा सकता है दो टिकट
एक उपभोक्ता आईडी से दिन में सिर्फ 2 तत्काल टिकट बुक किए जा सकते हैं। वहीं, एक आईपी एड्रेस से भी अधिकतम 2 तत्काल टिकट बुक हो सकते हैं। एक उपभोक्ता लॉगिन से प्रातः काल 8 बजे से दोपहर 12 बजे के बीच केवल एक बुकिंग की जा सकती है, जिसमें आने-जाने दोनों की टिकट की टिकट शामिल हैं। अगर दोबारा टिकट बुक करनी है तो इसके लिए लॉग-आउट करके दोबारा लॉगिन करना होगा। एक उपभोक्ता आईडी से एक महीने में अधिकतम 6 टिकट व आधार से लिंक होने पर 12 टिकट बुक किए जा सकते हैं।

क्या है रिफंड के नियम?
नियमों के मुताबिक, कुछ शर्तों के साथ तत्काल टिकट पर 100 प्रतिशत रिफंड की भी सुविधा है। ट्रेन डिपार्चर के 2 घंटे लेट होने, रूट बदलने, बोर्डिंग स्टेशन से ट्रेन के नहीं जाने व कोच डैमेज होने या बुक टिकट वाली श्रेणी में यात्रा की सुविधा नहीं मिलने पर 100 प्रतिशत रीफंड मिलता है। IRCTC ने रजिस्ट्रेशन, लॉग इन व बुकिंग पेज पर कैप्चा कोड की व्यवस्था की है। ऑटोमेशन सॉफ्टवेयर के जरिए होने वाली टिकट बुकिंग पर रोक लगाने के मकसद से कैप्चा कोड की व्यवस्था की गई है। साथ ही पेमेंट ऑप्शंस के लिए OTP की भी सुविधा है।

कितने दिन पहले होने कि सम्भावना है रिजर्वेशन?
लंबी दूरी की ज्यादातर ट्रेनों के लिए 120 दिन पहले से बुकिंग प्रारम्भ हो जाती है। यात्रा के दिन को 120 दिनों में शामिल नहीं किया जाता। 120 दिन की गणना करने के लिए IRCTC की टिकट बुकिंग वेबसाइट पर दिए कैलकुलेटर का भी प्रयोग कर सकते हैं। दिन में चलने वाली व कम दूरी की कुछ ट्रेनों की बुकिंग अवधि 30 दिन व 15 दिन भी है। विदेशी नागरिक यात्रा से 360 दिन पहले टिकट बुक करा सकते हैं।