झारखंड भीड़ हिंसा में शामिल थे ये 11 आरोपी, कुछ की आयु 30 से कम

झारखंड भीड़ हिंसा में शामिल थे ये 11 आरोपी, कुछ की आयु 30 से कम

झारखंड के सरायकेला खरसावां जिले के घातकीडीह गांव में तबरेज अंसारी नाम के शख्स को मोटरसाइकिल चोरी के संदेह में अधमरा होने तक पीटा गया. कुछ लोगों ने इस घटना का वीडियो भी बनाया था, जिसमें दिख रहा था कि तबरेज को बार-बार "जय श्री राम" व "जय हनुमान" बोलने के लिए विवश किया गया था. बाद में तबरेज की बाद में मृत्यु हो गई थी.

Image result for झारखंड भीड़ हिंसा में शामिल थे ये 11 आरोपी, कुछ की आयु 30 से कम

अब पता चला है कि उसकी मर्डर जिन लोगों के पीटने की वजह से हुई है, वो दिहाड़ी मजदूर, किसान व कार्य की तलाश कर रहे बेरोजगार युवक हैं. इनमें अधितर की आयु 30 वर्ष से ज्यादा नहीं है. 22 जून को हुई तबरेज की मृत्यु के बाद घातकीडीह गांव से 11 लोगों को हिरासत में लिया गया व दो पुलिकर्मी निलंबित हुए.

केवल पांच ने की दसवीं तक पढ़ाई: अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार 11 लोगों में से केवल पांच ही ऐसे हैं जिन्होंने दसवीं कक्षा तक पढ़ाई की है. इनमें से अधिकांश दिहाड़ी मजदूर, बेरोजगार व कार्य की तलाश करने वाले बेरोजगार हैं.

कौन हैं 11 आरोपी?

  • प्रकाश उर्फ पप्पू मंडल, आयु 28 वर्ष: इस मुद्दे में सबसे पहले प्रकाश अरैस्ट हुआ. अपने फेसबुक प्रोफोइल पर उसने खुद को अर्जुन मुंडा की पार्टी के लिए कार्य करने वाला बताया है. एसपी सरायकलां कार्तिक एस का बोलना है, "गिरफ्तार हुए लोग किसी भी राजनीतिक पार्टी व उनसे जुड़े संगठनों से नहीं जुड़े हैं."
  • कमल मेहतो, उम्र 48 वर्ष: कमल वही है जिसने तबरेज अंसारी के विरूद्ध चोरी का मुद्दा दर्ज करवाया था. उसने दसवीं तक पढ़ाई की है. कमल की बेटी मोनिका महतो ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रही है. मोनिका का बोलना है कि, "वो रेलवे में गैंगमैन के तौर पर कार्य करते हैं. पूरी घटना के लिए अब सारा गांव हम पर गुनाह लगा रहा है. हमने केवल सतर्क किया था, जब हमने चोर को देखा." महतो गांव के उन लोगों में से एक है जिसके पास पक्का घर है.
  • सुमंत महतो, आयु 24 वर्ष: पुलिस का बोलना है कि कमल का बेटा सुमित महतो पहला आदमी था जिसने चोर को लेकर शोर मचाया. सुमित अविवाहित है व बीते वर्ष ही आईटीआई का कोर्स पूरा किया है. सुमित की बहन मोनिका का बोलना है कि उसे एक पक्की जॉब मिलने वाली थी.
  • प्रेमचंद मेहली, उम्र 21 वर्ष: पुलिस का बोलना है कि जब घटना हुई तब प्रेमचंद वहां उपस्थित था. गांववालों के अनुसार उसने दसवीं कक्षा तक पढ़ाई की है व एक सीमेंट की कंपनी में मजदूरी करता है. उसके पास अपनी कोई जमीन नहीं है व उसके माता-पिता बांस से टोकरियां बनाते हैं. जो पास के ही मार्केट में बेची जाती हैं.
  • सोनाराम मेहली, आयु 31 वर्ष: सोनाराम प्रेमचंद मेहली का रिश्तेदार है व दिहाड़ी मजदूरी करता है. उसकी पड़ोसी जयंती के अनुसार उसने दसवीं कक्षा की पढ़ाई भी पूरी नहीं की है. उसने ये भी बोला कि पुलिस ने सोनाराम के 65 वर्षीय पिता कुशल मेहली को भी हिरासत में लिया है. एसपी का बोलना है, "मुझे इस बारे में नहीं पता कि उसके पिता को हिरासत में लिया गया है. हमें इसकी जाँच करने की आवश्यकता है."
  • सत्यनारायण नायक, आयु 55 वर्ष: सत्यनारायण भी दिहाड़ी मजदूरी करता है व घरों में रंगाई का कार्य कर प्रतिदिन 100-150 रुपये तक कमाता है. उसके परिवार का बोलनाहै कि उसने पांचवीं के बाद पढ़ाई नहीं की व वह कच्चे घर में रहते हैं. सत्यनारायण की पत्नी सरस्वती देवी का बोलना है कि उसकी बेटी की हाल ही में मृत्यु हुई है. उसने बताया, "मेरे पति की कमाई से ही अपनी बेटी के बेटे की देखभाल करते हैं. अब मेरे पास कोई नहीं है. वह 18 जून को यहीं थे व उसने किसी को नहीं मारा."
  • मदन नायक, आयु 30 वर्ष: सत्यनाराण का भतीजा मदन भी पांचवीं के बाद नहीं पढ़ा व अभी तक सीमेंट फैक्ट्री में कार्य करता था. उसके बेटे प्रकाश का बोलना है कि वह बीते कुछ दिनों से कार्य नहीं कर पा रहा था क्योंकि उसे गेट पास नहीं मिला. उसने बताया, "जब घटना हुई तब मेरे पिता वहां थे लेकिन उन्होंने किसी पर हमला नहीं किया."
  • भीम मंडल, उम्र 45 वर्ष: भीम इलाके के लोकल बाजारों में आलू पेटीज व पकौड़े बेचता है. उसने कक्षा पांच तक ही पढ़ाई की है. भीम की पत्नी नंदिनी का बोलना है, "जब हम प्रातः काल पांच बजे उठे तब हमें घटना के बारे में पता चला. तब वह (भीम मंडल) घटनास्थल पर गए थे."
  • महेश मेहली, उम्र 28 वर्ष: महेश मेहली की मां ने बोला है कि उसने दसवीं कक्षा तक पढ़ाई की है. मेहली की मां ने बताया, "वह कोर्स करने के लिए रांची गया था व उधर कार्य भी करता था लेकिन यहां आ गया. वो हमारे सारे परिवार की देखभाल करता है. वो बस ये देखने गया था कि 18 जून को क्या हुआ था."
  • सोनामु प्रधान, उम्र 23 वर्ष: गांव वालों के अनुसार सोनामु का परिवार 18 जून के बाद से नहीं दिखा है. सोनामु ने दसवीं तक पढ़ाई की है व अविवाहित है. लोकल लोगों का ये भी बोलना है कि सोनामु ने हाल ही में हल जोतने के लिए ट्रैक्टर व एक पुरानी बोलेरो खरीदी है.
  • चामु नायक, उम्र 40 वर्ष: चामु खेती के लिए जमीन का एक छोटा सा टुकड़ा है व उसके तीन बेटे हैं. उसकी पत्नी सराथी देवी का बोलना है कि उसने दसवीं कक्षा तक पढ़ाई पूरी नहीं की है. चामु की पत्नी का बोलना है, "जहां घटना हुई वहां वह उपस्थित ही नहीं थे व उन्होंने किसी पर हमला नहीं किया."