भारतीय टीम में स्विंग के इस महारथी से डरते है दुनिया के सभी बल्लेबाज, जानिये क्या है इसकी वजह

भारतीय टीम में स्विंग के इस महारथी से डरते है दुनिया के सभी बल्लेबाज, जानिये क्या है इसकी वजह

गेंद को विकटों के दोनों ओर घुमाने की काबलियत रखने वाले यूपी के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ( Bhuvneshwar Kumar ) ने 30 दिसंबर 2012 को वनडे क्रिकेट में पर्दापण किया था. बैंगलुरू में पाक के विरूद्ध मैच में बल्लेबाजी के लिए उपयुक्त विकेट पर भुवी ने स्विंग गेंदबाजी का बेहतरीन नजारा पेश किया. इसी प्रदर्शन को देखते हुए 2013 में चयनकर्ताओं ने ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध चेन्नई टेस्ट में उनको मौका दिया.

सचिन को शून्य पर ऑउट करना बना प्रेरणा

हिन्दी की कहावत है पूत के पांव में पालने में दिखने लगते हैं, इसी कहावत को साकार करते हुए भुवनेश्वर कुमार ने यूपी की ओर से खेलते हुए अपने प्रथम श्रेणी मैच में महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ( Sachin Tendulkar ) को शून्य पर ऑउट कर दिया था. सचिन को जब पवेलियन भेजा तो भुवी सिर्फ 19 वर्ष के थे. बोला जाता है कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सचिन अगर किसी गेंदबाज के सामने शून्य पर ऑउट हुए तो वो भुवनेश्वर कुमार थे.

भुवनेश्वर के लिए 2014 अच्छा रहा

2014 की शुरूआत में दक्षिण अफ्रीका व न्यूजीलैंड के भ्रमण पर भुवनेश्वर कुमार को कोई खास सफलता नहीं मिली. दोनों ही राष्ट्रों के दौरों पर भुवनेश्वर तेज गति से गेंदबाजी करने के चक्कर में अपना बड़ा हथियार स्विंग को भूलने लगे थे. इसके बाद इंग्लैंड में हुई टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेकर भुवनेश्वर कुमार ने कमाल कर दिया. इस भ्रमण पर बल्ले से भी लाजवाब प्रदर्शन करते हुए उन्होंने तीन अर्धशतक लगाए. बेकार फिटनेस की वजह से भुवी दुनिया कप 2015 में सिर्फ एक मैच खेल पाए.

चैंपियंस ट्रॉफी-2017 करियर के लिए टर्निंग प्वाइंट रहा
2015 व 2016 में भुवी ज्यादा क्रिकेट नहीं खेल सके. इसकी वजह रही उनकी लगातार बेकार फिटनेस. इस बार भुवनेश्वर ने अपनी अपनी कमजोरी रही फिटनेस पर कार्य किया.2017 की चैम्पियंस ट्रॉफी में बुमराह के साथ भुवनेश्वर कुमार एक अलग ही गेंदबाज के तौर पर नजर आए. इस बार दोनों ने गेंदबाजों में यॉर्कर को अपना सबसे बड़ा हथियार बनाया.भुवनेश्वर कुमार को नकल बॉल का भी मास्टर माना जाता है.

वनडे, टेस्ट व टी-20 में भुवनेश्वर कुमार का रिकार्ड

भुवनेश्वर कुमार ने 111 वनडे मैचों में 126 विकेट लिए हैं. 21 टी-20 मैचों में भुवी ने 63 विकेट झटके हैं. वहीं 37 टी-मैचों में भुवनेश्वर ने 36 विकेट झटके हैं. IPL में खेले 112 मैचों में भुवनेश्वर कुमार ने कुल 133 लिए हैं.