खाद्य वस्तुओं के समूह वाले सूचकांक में 1.4 फीसदी की बढ़त

खाद्य वस्तुओं के समूह वाले सूचकांक में 1.4 फीसदी की बढ़त

अगस्त महीने में थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई करीब 25 महीने के निचले स्तर 1.08 फीसदी पर रही. जुलाई के मुकाबले इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है. एक साल पहले की समान अविध यानी अगस्त 2018 में थोक महंगाई दर 4.62 फीसदी थी. इसके पहले खुदरा महंगाई में बढ़त का आंकड़ा आया था.

खाद्य वस्तुओं के समूह वाले सूचकांक में 1.4 फीसदी की बढ़त हुई है. मसलों एवं ज्वार, रागी, जौ जैसे अनाज की कीमतों में 4 फीसदी, फलों एवं सब्जियों और पोर्क मांस की कीमतों में 3 फीसदी, मछली, गेहूं, मक्का, बीफ आदि की कीमत में 2 फीसदी और दूध, राजमा, धान, मटन की कीमतों में 1 फीसदी का इजाफा हुआ है. अंडे की कीमत में 7 फीसदी, चाय में 2 फीसदी और चिकन की कीमतों में 1 फीसदी की गिरावट आई है.

इसके पहले जुलाई में थोक महंगाई दर 1.08 फीसदी पर ही थी. जुलाई में ईंधन-बिजली की थोक महंगाई दर में कमी आई थी. इससे भी पहले जून में थोक महंगाई की दर 2.02 फीसदी पर थी. एक साल पहले जुलाई 2018 में थोक महंगाई दर के आंकड़े 5.27 फीसदी पर थे.

खुदरा महंगाई बढ़ गई थी

इसके पहले आए आंकड़ों में बताया गया था कि अगस्त में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 3.21 प्रतिशत हो गई है, ये 10 महीने का उच्चतम स्तर है. पिछले साल अगस्त 2018 में खुदरा महंगाई दर 3.69 प्रतिशत थी. इसके पिछले महीने से खुदरा महंगाई दर की तुलना करें तो भी महंगाई में इजाफा हुआ है.जुलाई में खुदरा महंगाई दर 3.15 फीसदी थी. हालांकि, महंगाई दर का आंकड़ा अभी भी रिजर्व बैंक द्वारा तय लक्ष्य (4 फीसदी) के दायरे में ही है.