बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए आज से ही करे ऐल्कॉहॉल को बाय-बाय,वरना...

बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए आज से ही करे ऐल्कॉहॉल को बाय-बाय,वरना...

हाल ही में हुई एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि वैसी महिलाएं जो ऐल्कॉहॉल पीने की आदत छोड़ देती हैं उनका मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होगा व साथ ही साथ अच्छा ज़िंदगी भी जी पाएंगी. यूनिवर्सिटी ऑफ हॉन्ग कॉन्ग के प्रफेसर माइकल नी कहते हैं, 'स्टडी के दौरान कई सबूत सामने आए हैं जो हेल्दी डायट के तहत मॉडरेट ड्रिंकिंग का सुझाव देते हैं.'

हफ्ते में 7 ड्रिंक से कम यानी मॉडरेट ड्रिंकिंग
कनेडियन मेडिकल असोसिएशन नाम के जर्नल में प्रकाशित इस स्टडी में हॉन्ग कॉन्ग के फैमिली कोहर्ट के 10 हजार 386 लोगों को शामिल किया गया था जो वर्ष 2009 से 2013 के बीच नॉन ड्रिंकिर्स या मॉडरेट ड्रिंकर्स थे. मॉडरेट ड्रिंकिंग का मतलब है पुरुषों के लिए एक सप्ताह में 14 ड्रिंक या इससे कम व स्त्रियों के लिए एक सप्ताह में 7 ड्रिंक या इससे कम.

दो भिन्न-भिन्न स्टडी के नतीजों की हुई तुलना
इस स्टडी के डेटा व नतीजों की तुलना अमेरिका में नैशनल इंस्टिट्यूट ऑन ऐल्कॉहॉल अब्यूज ऐंड ऐल्कॉहॉलिज्म की ओर से 31 हजार लोगों पर करवाए गए एक सर्वे के नतीजों के डेटा से की गई. फैमिली कोहर्ट वाली स्टडी में शामिल प्रतिभागियों की औसत आयु 49 वर्ष थी व इनमें से 56 फीसदी प्रतिभागी महिलाएं थीं. इनमें से करीब 64 फीसदी पुरुष व 88 फीसदीमहिलाएं नॉन ड्रिंकर्स थे.