बार फिर सभी की नजरें क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर पर रहेगी जो दो वर्ष पहले थी टकराव के घेरे में

 बार फिर सभी की नजरें क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर पर रहेगी जो दो वर्ष पहले थी टकराव के घेरे में

भारत व दक्षिण अफ्रीका के बीच गुरुवार से यहां प्रारम्भ हो रहे दूसरे क्रिकेट टेस्ट के दौरान एक बार फिर सभी की नजरें क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर पर रहेगी जो दो वर्ष पहले टकराव के घेरे में आ गए थे. महाराष्ट्र क्रिकेट के इस अनुभवी क्यूरेटर को 2012 में यहां पहले आईपीएल मैच के बाद से पिच बनाने का जिम्मा दिया गया है.



महाराष्ट्र के पूर्व तेज गेंदबाज 69 साल के सालगांवकर के पास अपनी गलती सुधारने का मौका है. ढाई वर्ष पहले 2017 में जब ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध मैच तीन दिन के भीतर समाप्त हो गया था, तब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इस पिच को ‘खराब’ करार दिया था । स्पिनरों ने उस मैच में 31 विकेट लिये व नाथन लियोन जीत के सूत्रधार रहे थे.

उस टेस्ट के बाद सालगांवकर की मदद के लिए पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता सुरेंद्र भावे को नियुक्त किया गया. न्यू जीलैंड के विरूद्ध अक्टूबर 2017 में वनडे मैच से पहले वह कथित ‘पिच फिक्सिंग’ टकराव से घिर गए थे व करप्शन निरोधक अधिकारियों को मुद्दे की रिपोर्ट नहीं करने के कारण उन्हें छह महीने के लिये निलंबित कर दिया गया था. उस समय सालगांवकर की पत्नी बीमार थी व यही वजह थी कि वह रिपोर्ट नहीं कर सके थे. निलंबन समाप्त होने के बाद हिंदुस्तान व वेस्ट इंडीज के बीच पिछले वर्ष हुए मैच की पिच उन्होंने बनाई व उसमें कोई टकराव नहीं हुआ.