क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद धोनी करेंगे ये काम, जान कर रह जाएँगे दंग

 क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद धोनी करेंगे ये काम, जान कर रह जाएँगे दंग

पूर्व कैप्टन एमएस धोनी टीम इंडिया के लिए वाइट बॉल क्रिकेट खेलते रहेंगे या रिटायरमेंट ले लेंगे? इस सवाल का जवाब तो सिर्फ धोनी ही दे सकते हैं. अब जब वर्ल्ड कप-2019 में टीमइंडिया का सफर समाप्त हो चुका है व खिलाड़ी स्वदेश लौटना है तो क्रिकेट प्रशासक उनसे (धोनी से) इस बारे में जवाब का इंतजार कर रहे हैं.
Image result for धोनी,रिटायरमेंट,Dhoni, Retirement
टूर्नमेंट के सेमीफाइनल में न्यू जीलैंड से हिंदुस्तान को दंग करने वाली पराजय मिली है. टीम वापस हिंदुस्तान आने के बाद वेस्ट इंडीज दौरे पर जाएगी. सिलेक्शन कमिटी की बैठक 17 या 18 जुलाई को मुंबई में होनी है. इस बैठक में वेस्ट इंडीज के विरूद्ध होने वोले 3 मैचों की टी-20, 3 मैचों की वनडे व दो मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम का चुनाव होगा व वे जानते हैं कि धोनी वेस्ट इंडीज नहीं जाएंगे.

विराट सहित कई खिलाड़ियों को आराम
वर्ल्ड कप विनिंग कैप्टन के भविष्य पर वैसे कोई निर्णय नहीं किया गया है व न ही दिनेश कार्तिक व ऋषभ पंत पर, ये दोनों विकेटकीपर भी वर्ल्ड कप टीम का भाग रहे हैं. दूसरी ओर, कैप्टन विराट कोहली सहित कई प्रमुख खिलाड़ियों को विंडीज के विरूद्ध वनडे-टी-20 सीरीज में आराम दिया जा सकता है. अगर ऐसा होता है तो वे अगस्त में विंडीज के विरूद्ध एंटिगा वजमैका टेस्ट के लिए टीम से जुड़ेंगे. रोहित शर्मा वनडे व टी-20 टीम को लीड करेंगे.

सूत्रों की मानें तो जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी को भी आराम दिया जा सकता है. ये खिलाड़ी लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं. हालांकि इसका पता नहीं है कि धोनी अपने रिटायरमेंट पर ट्वीट करेंगे या मीडिया से रूबरू होंगे? या फिर अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप तक खेलेंगे?

बोर्ड को धोनी का इंतजार
इस बारे में सूत्र ने बताया कि इंतजार करिए. वर्ल्ड कप समाप्त हो चुका है हमारे लिए. टीम अगले कुछ ही घंटों में वापस आ जाएगी. आखिरी रात टीम के लिए कठीन थी बोर्ड को धोनी का इंतजार है.

  • आईसीसी वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में न्यू जीलैंड से हारकर भारतीय टीम का खिताबी सपना टूट गया. उसे 18 रनों से पराजय का सामना करना पड़ा है. टीम इंडियाके करोड़ों फैन्स का दिल भी इसी के साथ टूट गया. कीवी टीम ने जब 239 का स्कोर किया तो लगा हिंदुस्तान इतना सरलता से बना लेगा व फाइनल के लिए क्वॉलिफाइ करेगा, लेकिन कीवी गेंदबाजों ने शुरुआती 45 मिनट में ही मैदान पर उतरते ही गेम पलट दिया. आइए जानें मैच के टर्निंग पॉइंट्स के बारे में

  • मैट हेनरी ने ओपनर रोहित शर्मा व केएल राहुल, जबकि ट्रेंट बोल्ट ने कैप्टन विराट कोहली को पहली 19 गेंदों में आउट किया. तीनों 1-1 रन बना सके. टॉप-3 बल्लेबाजों के महज 5 रन के टीम स्कोर पर पविलियन लौटने से टीम इंडिया भयंकर दबाव में आ गई व 240 रनों का लक्ष्य पहाड़ सरीखा नजर आने लगा.

  • निदाहास ट्रोफी में आखिरी गेंद पर सिक्स लगाकर जीत दिलाने वाले दिनेश कार्तिक से टीम को उम्मीद थी, लेकिन वह भी कुछ खास नहीं कर सके व 6 रन पर चलते बने. अब 24 पर 4 विकेट गिरने के बाद ऋषभ पंत व हार्दिक पंड्या ने 5वें विकेट के लिए 47 रन जोड़कर स्थिति संभालने की प्रयास की, लेकिन दोनों हवाई शॉट खेलकर आउट हो गए.जबकि ऐसे शॉट की आवश्यकता थी ही नहीं.

  • लग रहा था कि हिंदुस्तान बड़े अंतर से हारेगा तो रविंद्र जाडेजा ने पूर्व कैप्टन धोनी के साथ 7वें विकेट के लिए 116 रन जोड़े. इसमें अहम सहयोग जड्डू का था. लग रहा था ये दोनों मैच फिनिश करके लोटेंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. टीम इंडिया को जब 18 गेंद में 37 रन चाहिए थे, तभी जडेजा (77 रन, 59 गें, 4 चौके व 4 छक्के) कैच आउट हो गए. यहीं से मैच पलट गया.

  • 49वें ओवर में फर्ग्युसन की पहली ही बॉल पर धोनी ने छक्का जड़ा. फैंस का उत्साह देखते बन रहा था. कॉमेंट्री कर रहे पूर्व कैप्टन सौरभ गांगुली माइक थामे चेयर से लगभग उछलते दिखे. तीसरी बॉल पर धोनी ने दूसरे रन के लिए दौड़ लगाई, लेकिन फुर्तीले गप्टिल के सीधे थ्रो ने स्टंप बिखेर दिए. स्टेडिय में हजारों संख्या में बैठे भारतीय फैंस में मातम छा गया. गांगुली का चेहरा निराशा से भर गया. दरअसल, उन्हें पता था मैच हिंदुस्तान के हाथ से निकल गया है अब कुछ नहीं हो सकता.