जीएसपी व्यापार प्रोग्राम के तहत PM मोदी ने दिया, डोनाल्ड ट्रंप को झटका

जीएसपी व्यापार प्रोग्राम के तहत PM मोदी ने दिया, डोनाल्ड ट्रंप को झटका

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जीएसपी व्यापार प्रोग्राम के तहत हिंदुस्तान को प्राप्त लाभ पाने वाले विकासशील देश का पंजीकृत ा समाप्त कर दिया है. ट्रंप का बोलना है कि हिंदुस्तान ने अमेरिका को ‘‘अपने मार्केट तक समान व तर्कपूर्ण पहुंच’’ देने का आश्वासन नहीं दिया है. जेनरेलाइज सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस (जीएसपी) अमेरिका का सबसे बड़ा व पुराना व्यापार तरजीही प्रोग्राम है. इसका लक्ष्य लाभ पाने वाले देश के हजारों उत्पादों को बिना शुल्क प्रवेश की अनुमति देकर आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है. ट्रंप ने शुक्रवार को कहा, ‘‘मैंने यह तय किया है कि हिंदुस्तान ने अमेरिका को अपने मार्केट तक समान व तर्कपूर्ण पहुंच देने का आश्वासन नहीं दिया है. जिसके चलते, पांच जून, 2019 से हिंदुस्तान को प्राप्त लाभ पाने वाले विकासशील देश का पंजीकृत ा खत्म करना बिल्कुल ठीक है.’’

ट्रंप ने इस विषय में अमेरिका के तमाम शीर्ष सांसदों की अपील ठुकराते हुए यह निर्णय लिया है. सांसदों का बोलना था कि इस कदम से अमेरिकी उद्योगपतियों को प्रतिवर्ष 30 करोड़ डॉलर का अलावा शुल्क देना होगा. बता दें कि इससे पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने बीती चार मार्च को बोला था कि अमेरिका जीएसपी के तहत हिंदुस्तान को प्राप्त लाभ पाने वाले विकासशील देश का पंजीकृत ा समाप्त करने पर विचार कर रहा है. इस विषय में हिंदुस्तान को मिला 60 दिन का नोटिस तीन मई को खत्म हो चुका है.

फेडरेशन भारतीय एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशंस की की एक रिपोर्ट के अनुसार, हिंदुस्तान का वैश्विक तौर पर निर्यात वर्ष 2018 में कुल 324.7 बिलियन डॉलर रहा था. इसमें से 51.4 बिलियन डॉलर का निर्यात अमेरिका को होता है. इसमें से 6.35 बिलियन डॉलर के निर्यात पर ही जीएसपी योजना के तहत हिंदुस्तान को लाभ मिलता है. बता दें कि अमेरिका का चाइनाके साथ व्यापार युद्ध चल रहा है, जिसका प्रभाव चाइना समेत पूरी संसार की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ रहा है.