पश्चिमी दिल्ली पुलिस ने  हथियारों के बड़े गिरोह को हिरासत में लिया

 पश्चिमी दिल्ली पुलिस ने  हथियारों के बड़े गिरोह को हिरासत में लिया

नई दिल्ली: पश्चिमी दिल्ली पुलिस ने  हथियारों के बड़े गिरोह को हिरासत में ले लिया है. पुलिस के अनुसार, हाशिम नाम के इस हथियारों के सौदागर ने बीते कुछ ही माह में दिल्ली और आसपास के बदमाशों को करीब 100 से अधिक अवैध हथियार और 1000 कारतूस बेचे गए थे. दरअसल हाशिम के विरुद्ध कत्ल समेत दो और संगीन अपराधों के केस भी दर्ज है. लेकिन कुछ दिनों पहले पुलिस को सूचना मिली थी कि अपराधी 15 वारदातों में शामिल रह चुका है, और कुछ ही दिनों पहले पटेल नगर में गोली से हमला करने वाला शातिर अपराधी कीर्ति नगर मेट्रो स्टेशन के पास आने वाला है. जिसके उपरांत पुलिस ने कीर्ति नगर मेट्रो स्टेशन के आसपास अपनी टीमें लगा दी थीं और जैसे ही स्कूटी पर नेमीचंद वहां पहुंचा है पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया.

 पुलिस ने जब इलज़ाम की तलाशी ली तो उसके पास से एक अवैध तमंचा और 7 जिंदा कारतूस मिले. पूछताछ में नेमीचंद ने पुलिस को कहा कारतूस और अवैध तमंचा उसे अवैध हथियारों का कार्य करने वाले हाशिम ने दिया है. नेमीचंद से हाशिम की पूरी सूचना लेने के उपरांत पुलिस ने हाशिम को पश्चिमी दिल्ली क्षेत्र से ही हिरासत में लिया गया. जब पुलिस ने उसे पकड़ा तो वह उस समय स्कूटी पर था. पुलिस ने उसकी तलाशी ली तो उसके पास से एक पिस्टल बतरामद हुई और जब पुलिस ने उसकी स्कूटी की तलाशी ली स्कूटी से 4 अवैध तमंचे और 40 जिंदा कारतूस बरामद की गई. पूछताछ में हाशिम ने कहा कि वह पश्चिमी यूपी से अवैध हथियार लाकर दिल्ली और आसपास के बदमाशों को सप्लाई करता था. अवैध तमंचे को वह 15 से 20 हजार में विक्रय करता था, जबकि रिवॉल्वर और पिस्टल के 70 हजार से लेकर 80 हजार तक वसूला करता था.

 पुलिस ने हाशिम की कुंडली पढ़ना शुरू की तो पता चला की अवैध हथियारों की तस्करी के अतिरिक्त भी हाशिम पर तीन और आपराधिक केस दर्ज हैं, जिनमें से एक केस कत्ल का है. जानकारी के अनुसार, करोल बाग क्षेत्र में एक सट्टेबाज 5 करोड़ की रकम जीत चुका था, जब हाशिम को यह बात पता चली तो उसने उससे पैसों की डिमांड की, लेकिन जब उसने हाशिम को पैसे देने से मना कर दिया तो हाशिम ने उसका कत्ल कर दिया था. जिसके अतिरिक्त दूसरे आपराधिक मामले भी हाशिम के विरुद्ध दर्ज हैं.