महादेव के जयकारे के साथ प्रारम्भ हुई सावन के पहले सोमवार की पूजा

महादेव के जयकारे के साथ प्रारम्भ हुई सावन के पहले सोमवार की पूजा

कोरोना वायरस संकट के बीच आज सावन का पहला सोमवार है. देशभर के मंदिरों में भगवान शिव के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ रही है. कोरोना संकट के मद्देनजर मंदिर प्रशासन द्वारा नियमों का पालन किया जा रहा है. हालांकि, कोविड-19 के चलते माहौल वैसा नहीं है, जैसा आम तौर पर देखा जाता है. 

इसके बाद भी भगवान शिव की अराधना करने के लिए भक्तों की भीड़ कम संख्या में ही ठीक लेकिन लगातार मंदिरों में पहुंच रही है. मंदिरों के बाहर सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करवाने के लिए गोले बनाए गए हैं, ताकि श्रद्धालु एक दूसरे से उचित दूरी बनाकर खड़े हो. 
दिल्ली के चांदनी चौक स्थित गौरी शंकर मंदिर में भी सावन के पहले सोमवार को भक्तों की भीड़ भगवान शिव के दर्शन के लिए पहुंची. यहां लोगों को एक-दूसरे से उचित दूरी बनाने को कहा जा रहा है. 

मंदिरों में भगवान शिव का जलाभिषेक किया जा रहा है. भगवान शिव की नगरी वाराणसी से लेकर दिल्ली के मंदिरों में भक्त सुबह-सुबह भगवान शिव के जलाभिषेक के लिए पहुंच रहे हैं. वाराणसी में प्रातः काल से काशी विश्वनाथ मंदिर के बाहर भक्तों की भीड़ जुटना प्रारम्भ हो गई है. 

भक्तों को सुरक्षित दर्शन कराने के लिए मंदिर प्रशासन ने पुख्ता बंदोवस्त किए हैं. लोगों को मंदिर के द्वार तक पहुंचने के लिए बांस-बल्ली के सहारे लाइन बनाई गई है. श्रद्धालुओं को इन लाइनों में ही खड़े होने को बोला गया है. मंदिर परिसर में कोरोना वायरस को लेकर बनाए गए दिशानिर्देशों का सख्त रूप से पालन किया जा रहा है. 

मध्यप्रदेश के उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर में भी भक्तों की भीड़ उमड़ रही है. हालांकि, इस बार दर्शन के लिए भक्तों को प्री-बुकिंग करवानी पड़ी है. मंदिर में आज महाकाल की भव्य आरती की गई है. इससे पहले, भगवान शिव का भव्य ऋंगार किया गया था. 

दिल्ली के सभी शिवालयों में भी प्रातः काल से ही श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी है. चांदनी चौक स्थित बनखंडी महादेव मंदिर में सावन के पहले सोमवार को श्रद्धालु बड़ी संख्या में भगवान शिव के दर्शन के लिए इकट्ठा हुए. मंदिर में प्रवेश से पहले श्रद्धालुओं के तापमान की जाँच की गई. साथ ही सामाजिक दूरी के नियमों का पालन किया गया. 

यह मंदिर पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के सामने स्थित है व शिवभक्तों की आस्था का प्रमुख केन्द्र है. बता दें कि, यह मंदिर पुरानी दिल्ली के प्रमुख शिव मंदिरों में से एक है, जहां पुरानी दिल्ली के भक्त तो आते ही हैं साथ ही पुरानी दिल्ली के इलाके से निकलकर बाहर रहने वाले लोग भी पूजा अर्चना करने नियमित तौर पर यहां आते हैं. सावन के अतिरिक्त अन्य दिनों में भी यहां भक्तों का तांता लगा रहता है.

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ सावन के पहले सोमवार को गोरखपुर स्थित मानसरोवर मंदिर में भगवान शिव के दर्शन के लिए पहुंचे. मुख्यमंत्री योगी सुबह-सुबह ही मंदिर पहुंच गए. उन्होंने भगवान शिव का जलाभिषेक किया व पूजा-अर्चना की. 

बता दें कि, सावन में शिवलिंग की पूजा करने से जन्मकुंडली के नवग्रह गुनाह तो शांत होते हैं, विशेष करके चंद्र्जनित गुनाह जैसे मानसिक अशान्ति, मां के सुख व स्वास्थ्य में कमी, मित्रों से संबंध, मकान-वाहन के सुख में विलंब, हृदयरोग, नेत्र विकार, चर्म-कुष्ट रोग, नजला-जुकाम, श्वास रोग, कफ-निमोनिया संबंधी रोगों से मुक्ति मिलती है व समाज में मान प्रतिष्ठा बढ़ती है.