कोरोना टेस्ट की संख्या में भारी इजाफा

कोरोना टेस्ट की संख्या में भारी इजाफा

नई दिल्ली: पिछले करीब एक सप्ताह से हर रोज देश भर में कोरोना (Coronavirus) के 60 हजार से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह है देश में कोरोना के टेस्ट (Corona Test) की संख्या में भारी इजाफा। बुधवार को हिंदुस्तान में रिकॉर्ड 8 लाख से ज्यादा कोरोना के टेस्ट हुए। हिंदुस्तान में 22 जनवरी से लेकर अब तक 2 करोड़ 60 लाख से ज्यादा टेस्ट हुए हैं। आरंभ में देश भर में कोरोना टेस्ट के लिए सिर्फ एक प्रयोगशाला पुणे में था। लेकिन अब इन दिनों 1433 प्रयोगशाला में कोरोना के टेस्ट हो रहे हैं। जिसमें से 947 सरकारी प्रयोगशाला हैं व 486 प्राइवेट। बता दें कि सरकार ने वैसे हर दिन कम से कम से 10 लाख टेस्ट का लक्ष्य रखा है।

हर 10 लाख पर कितने टेस्ट?
हिंदुस्तान में हर 10 लाख की आबादी पर 20140 टेस्ट हो रहे हैं। ये आंकड़ा उन राष्ट्रों के मुकाबले बेहद कम है जहां ज्यादा केस हैं। अमेरिका में हर 10 लाख लोगों पर 204130 टेस्ट किए जा रहे हैं। जबकि ब्राजील में ये आंकड़ा 62197 है। आईसीएमआर को उम्मीद है कि हिंदुस्तान जल्द ही एक दिन में 10 लाख टेस्ट के लक्ष्य को पूरा कर लेगा। अगर ऐसा हुआ तो फिर एक दिन में हर 10 लाख की आबादी पर हिंदुस्तान में 750 टेस्ट होंगे। WHO की गाइडलाइन के मुताबिक एक दिन में 140 टेस्ट होने महत्वपूर्ण है।

टेस्ट की संख्या में इज़ाफ़ा
पिछले एक सप्ताह में हर रोज़ देश भर में कोरोना की टेस्टिंग में 2.8 प्रतिशत का इज़ाफा हुआ है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि अगले एक सप्ताह में हिंदुस्तान हर रोज़ 10 लाख टेस्ट करने में सफल रहेगा। पिछले पांच दिनों में देश भर में कोरोना टेस्ट की संख्या का रिकॉर्ड बना रहा है। 12 अगस्त को 830,391 टेस्ट। 11 अगस्त को 733,449, 8 अगस्त को 719,364 व 9 अगस्त को 698,290 टेस्ट किए गए।

पॉजिटिविटी रेट में कमी
कोरोना की ज्यादा टेस्टिंग से पॉजिटिविटी रेट में भी भारी कमी आई है। 25 जुलाई को पॉजिटिविटी रेट 12.5 प्रतिशत थी। अब ये रेट घटकर 8% पर पहुंच गई है। यानी हर सौ लोगों की टेस्टिंग पर 8 लोग कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि कोरोना की गति पर ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग से ही लगाम लगाई जा सकता है। WHO के मुताबिक पॉजिटिविटी रेट 5% से कम होने के बाद ही लॉकडाउन में छूट दी जा सकती है।