कोरोना संकट के बीच चीन के साथ सीमा पर बढ़ी टेंशन, लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ जनरल नरवणे

कोरोना संकट के बीच चीन के साथ सीमा पर बढ़ी टेंशन, लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ जनरल नरवणे

नई दिल्ली: पिछले दिनों सिक्किम के पास बॉर्डर पर हिंदुस्तान व चाइना के सैनिकों के बीच झड़प हो गई थी।   इसके अलावा पैंगोंग त्सो झील के पास भी तनाव बढ़ गया है।   ऐसे में हाल के दिनों में दोनों राष्ट्रों के बीच तनाव बढ़ गया है। इस बीच समाचार है कि सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे (General Manoj Mukund Naravane ) शुक्रवार को दशा का जायजा लेने के लिए लद्दाख गए थे। बता दें कि नरणवे उस बयान के बाद वहां गए जब हिंदुस्तान की तरफ से बोला गया कि देश की सुरक्षा व संप्रभुता सुनिश्चित करने के लिए वो प्रतिबद्ध है।

लद्दाख में नरवणे
अंग्रेजी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक जनरल मनोज मुकुंद नरवणे के साथ बॉर्डर पर उत्तरी कमांड के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल वायके जोशी भी उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त इन दोनों के साथ दशा का जायाजा लेने के लिए लेह के 14 कॉर्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट हरिंदर सिंह भी थे। हालांकि इस दौरे को लेकर आर्मी की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई। लेकिन बोला जा रहा है कि चाइना के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर जवाब देने के लिए बोला गया है।

बढ़ा तनाव

बता दें कि जिस तरह से PLA इंडियन आर्मी को उकसा रहा है नॉर्दन कमांड को हाई अलर्ट पर रख दिया गया है। हालांकि गतिरोध को कम करने के लिए दोनों राष्ट्रों के राजनयिक स्तर पर वार्ता भी हो रही है। सूत्रों के मुताबिक अगले कुछ दिनों में गतिरोध समाप्त होने कि सम्भावना है। इस बीच LAC के पास पूर्वी लद्दाख में हिंदुस्तान व चाइना दोनों तरफ से सेना की अलावा टुकड़ी तैनात कर दी गई है।

बातचीत नाकाम
भारत व चाइना के सैनिकों के बीच लद्दाख के पैंगोंग त्सो झील व गलवान घाटी में तनाव घटाने के लिये इस सप्ताह कम से कम पांच दौर की बातचीत नाकाम रही। दरअसल, दोनों पक्षों ने विवादित सीमावर्ती इलाकों में अपना-अपना आक्रामक रुख जारी रखा है। सरकारी सूत्रों ने शुक्रवार को ये जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि भारतीय थल सेना ने पैंगोंग त्सो झील व गलवान घाटी, दोनों जगहों पर चीनी सैनिकों के बराबर ही अपने सैनिकों की तैनाती की है। दोनों क्षेत्रों में पिछले दो हफ्तों में बड़ी संख्या में अलावा सैनिकों की तैनाती देखने को मिली है।