मरीज की बिगड़ती हालत को देख स्वास्थ्य मंत्री ने दिया अपना खून, जानिए पूरी खबर

मरीज की बिगड़ती हालत को देख स्वास्थ्य मंत्री ने दिया अपना खून, जानिए पूरी खबर

रांची: बन्ना गुप्ता स्वास्थ्य मंत्री बीते गुरुवार काे रिम्स में आकस्मित निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने इमरजेंसी, ऑर्थो वार्ड व न्यूराे सर्जरी वार्ड का निरीक्षण किया। इस बीच उन्हाेंने देखा कि कई मरीजाें का उपचार खून की कमी व पैसाें के अभाव के कारण नहीं हो पा रहा है। ऑर्थो वार्ड में बीते 9 दिनाें से भर्ती शीला देवी का उपचार खून की व्यवस्था नहीं होने के कारण रुका हुआ था। उनके पति रामविनय शर्मा 80 साल की नजर स्वास्थ्य मंत्री पर पड़ी ताे उन्हाेंने अपील की। उन्हें अपनी पूरी व्यथा सुनाई कि उनकी पत्नी शीला देवी का उपचार खून नहीं मिलने के कारण रुका हुआ है। जब वह ब्लड बैंक ब्लड मांगने के लिए गए थे तो वहां बताया गया कि खून लेने के बदले में डोनेट करना होगा। लेकिन पति बुजुर्ग थे, इसलिए वह ब्लड देने में असमर्थ थे।

रामविनय शर्मा ने कई लोगों से अपील भी कि परन्तु किसी ने उनकी मदद नहीं की। उनकी बातों को सुनने के पश्चात् स्वास्थ्य मंत्री ने तुरंत ब्लड देने का फैसला ले लिया। वह रामविनय शर्मा के साथ ब्लड देने के लिए ब्लड बैंक पहुंचे गए। तभी उन्होंने ब्लड डोनेट किया व बदले में रामविनय शर्मा को ब्लड मिला। इसके पश्चात् उनकी पत्नी शीला देवी का उपचार प्रारम्भ किया गया। इस बीच उन्होंने सभी से ब्लड डोनेट करने की अपील भी की।

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता अपनी टीम के साथ निरीक्षण के लिए रात 8 बजे रिम्स पहुंचे थे। बीते सात दिनाें से 15 हजार रुपए के कारण जमशेदपुर से आई 67 वर्षीय महिला मानाेषी भुई की उपचार नहीं हो रही थी। फिर स्वास्थ्य मंत्री उनसे भी मिले। तभी उन्हाेंने रिम्स प्रबंधन काे फ्री उपचार करने का आदेश भी दिया। संजय कुमार सिंह रिम्स उपाधीक्षक ने यह जानकारी दी कि स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता मरीज को अपना खून देकर हर किसी काे रक्तदान करने के आग्रह किया। इस हॉस्पिटल में राेजाना 50 लाेग रक्तदान करते हैं।