राहुल गांधी ने केन्द्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए बोला, 'हार्वर्ड में GST, नोटबंदी की विफलता पर होगी पढ़ाई'

राहुल गांधी ने केन्द्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए बोला, 'हार्वर्ड में GST, नोटबंदी की विफलता पर होगी पढ़ाई'

नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मुद्दे तेजी से बढ़ने की पृष्ठभूमि में सोमवार को केन्द्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए बोला कि कोविड-19, नोटबंदी व माल एवं सेवा कर (जीएसटी) से जुड़ी ‘विफलताएं’ भविष्य में हारवर्ड बिजनेस स्कूल में अध्ययन का विषय होंगी। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के कोरोना को 21 दिनों में पराजित करने से जुड़े एक बयान का वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘भविष्य में‘ कोविड-19, नोटबंदी व GST से जुड़ी विफलताएं हारवर्ड बिजनसे स्कूल में अध्ययन का विषय होंगी। ’’



बताते चलें कि सोमवार को देश में कोविड-19 के 24,248 नए मुद्दे सामने आये तथा इस वायरस के कारण 425 व लोगों की जान गई। इसके साथ ही देश में संक्रमित लोगों एवं मरने वालों की कुल संख्या बढ़ कर क्रमश: 6,97,413 एवं 19,693 हो गई है।

इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने रविवार को सरकार पर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे में बढ़ोतरी नहीं कर लॉकडाउन का समय बर्बाद करने व कोविड-19 रोगियों के लिए घटिया वेंटिलेटर खरीदने का आरोप लगाया था। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि पीएम केयर्स कोष में अपारदर्शिता से हिंदुस्तानियों का ज़िंदगी खतरे में पड़ रहा है। राहुल गांधी ने ट्विटर हैंडल से लिखा है था, 'पीएम केयर्स में अपारदर्शिता से हिंदुस्तानियों का ज़िंदगी खतरे में पड़ता जा रहा है व सार्वजनिक धन का प्रयोग घटिया सामग्री खरीदने में हो रहा है। '

कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी वेंटिलेटरों की खरीद में घोटाले का आरोप लगाया था। उन्होंने ट्विटर हैंडल से लिखा है था, 'वेंटिलेटर घोटाला. 50 हजार वेंटिलेटर के लिए आवंटित दो हजार करोड़ रुपये में से 23 जून तक केवल 1340 वेंटिलेटर की आपूर्ति हुई। खुली निविदा नहीं हुई. घटिया गुणवत्ता। प्रति वेंटिलेटर बताई गई डेढ़ लाख रुपये की राशि के बजाए चार लाख रुपये में इन्हें खरीदा गया। '