इस वजह के चलते Lucknow-Delhi के बीच चलने वाली Tejas Express आज से बंद

इस वजह के चलते Lucknow-Delhi के बीच चलने वाली Tejas Express आज से बंद

नई दिल्ली/लखनऊ: देश की पहली प्राइवेट ट्रेन का संचालन आज (23 नवंबर) से बंद कर दिया गया है कोविड-19 काल में आई मंदी से हो रहे घाटे के कारण इसे बंद करने का निर्णय किया गया है और ट्रेन अगले आदेश तक नहीं चलेगी

अगले महीने फिर होगी समीक्षा
ये देश की पहली कॉरपोरेट ट्रेन है, जो लखनऊ और दिल्ली के बीच चलती है इसे आईआरसीटीसी (IRCTC) द्वारा चलाया जाता है आईआरसीटीसी ने बोला है कि अगले महीने फिर से समीक्षा करेंगे और देखेंगे कि क्या दशा बनते हैं इस हिसाब से आगे निर्णय किया जाएगा

रोजाना हो रहा था लाखों रुपये का नुकसान
बता दें कि कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) के संक्रमण के कारण यात्रियों का आवागमन बहुत कम हुआ और तेजस ट्रेन में प्रतिदिन औसतन 20 से 30 यात्री ही यात्रा कर रहे थे इस कारण प्रतिदिन लाखों रुपये का नुकसान हो रहा था, जिसके बाद इसे अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है

ट्रेन लेट होने पर यात्रियों को मिलता है हर्जाना
तेजस पूरी तरह से वीआईपी ट्रेन है और इसके लखनऊ से नयी दिल्ली एसी चेयर कार का किराया 1125 रुपये है, जबकि एक्जक्यूटिव क्लास का किराया 2310 रुपये है यात्रा के दौरान पैसेंजर्स को पैक्ड फूड और आरओ वॉटर दिया जाता है इसके अतिरिक्त हर यात्री का 10 लाख रुपये का रेल यात्रा बीमा भी होता है साथ ही यदि ट्रेन लेट होती है तो आईआरसीटीसी (IRCTC) द्वारा यात्रियों को हर्जाना भी दिया जाता है ट्रेन के 1 घंटे से अधिक लेट होने पर 100 रुपये और 2 घंटे से अधिक देरी से पहुंचने पर 250 रुपये प्रति यात्री हर्जाना दिया जाता है


सीमा तक अपना नेटवर्क किया मजबूत, चीन की खतरनाक खुराफात से अलर्ट भारत

सीमा तक अपना नेटवर्क किया मजबूत, चीन की खतरनाक खुराफात से अलर्ट भारत

नई दिल्ली: भारत के साथ चीन लगातार उकसावे वाली हरकतें करता ही चला जा रहा है। पहले लद्दाख में घुसपैठ की और अब नार्थ ईस्ट में पैर फैला दिए हैं। एक साथ दो मोर्चों पर चीन की बदमाशी भारत के लिए बेहद चिंता का विषय है। दरअसल, अरुणाचल प्रदेश से चीन की सीमा लगी हुई है। चीन पहले भी मैकमोहन रेखा पार करके भारतीय इलाकों में घुसपैठ करता रहा है लेकिन अब तो उसने भारतीय जमीन पर पूरा का पूरा गाँव ही बसा दिया है। सैटेलाईट चित्रों से इस हरकत का पता चला है। एक नवंबर 2020 को सेटेलाइट से ली गई तस्वीरों से पता चला है कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के भीतर एक नया गांव बसा लिया है। 1962 के युद्ध में चीन की सेना अरुणाचल में काफी अन्दर तक घुस आई थी और तबसे चीन की निगाह इस क्षेत्र पर लगी हुई है। अपनी विस्तारवादी रणनीति के तहत चीन ने अरुणाचल सीमा तक अपना सड़क और रेलवे नेटवर्क मजबूती से खड़ा कर लिया है।

अरुणाचल पर निगाहें
चीन की निगाहें लंबे अरसे से पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पर रही हैं। वह अकसर उस सीमावर्ती इलाके में कभी पुल तो कभी रेलवे लाइन और बांध बनाता रहा है। अब ताजा मामले में सेटेलाइट तस्वीरों से यह बात सामने आई है कि उसने सीमा पर सौ से ज्यादा मकानों वाला एक नया गांव बसा लिया है। महज एक साल पहले यहाँ जंगल था। भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह इस मामले पर नजदीकी निगाह रखते हुए जरूरी कदम उठा रहा है।

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन बीते कुछ बरसों से खासकर पूर्वोत्तर सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रहा है। इनमें सड़क, ब्रिज, बांध और रेलवे लाइन शामिल हैं। भारत भी सीमावर्ती इलाके में बुनियादी ढांचा मजबूत करने पर ध्यान दे रहा है। उन इलाकों में सड़कों के अलावा ब्रिज बनाए गए हैं। सरकार का कहना है कि देश की सुरक्षा और संप्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा। चीन की ओर से भारतीय सीमा में गांव बसाने की पुष्टि के बाद इस मामले में जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

साढ़े चार किलोमीटर भीतर अतिक्रमण
तस्वीरों के विश्लेषण के बाद विशेषज्ञों ने कहा है कि ये गांव भारतीय सीमा में करीब साढ़े चार किलोमीटर भीतर बसाया गया है। उस गांव के अरुणाचल के अपर सुबनसिरी जिले में त्सारी नदी के किनारे होने का दावा किया गया है। वह इलाका लंबे अरसे से भारत और चीन के बीच विवादित रहा है और वहां कई बार दोनों देशों की सेना के बीच हिंसक झड़पें भी हो चुकी हैं। विशेषज्ञों ने 26 अगस्त 2019 को ली गई सेटेलाइट तस्वीरों से ताजा तस्वीर के मिलान के बाद कहा है कि ये गांव एक साल के भीतर बसाया गया है और इसमें 101 मकान हैं।

70 किलोमीटर तक अतिक्रमण
अरुणाचल के भाजपा सांसद तापीर गाओ ने पहले ही अपर सुबनसिरी में चीन की गतिविधियां तेज होने की जानकारी केंद्र सरकार को दी थी। गाओ के अनुसार चीन ने इलाके में एक हाइवे का निर्माण किया है। चीन ने अपर सुबनसिरी जिले में भारतीय इलाके में करीब 70 किलोमीटर तक अतिक्रमण कर लिया है। अब नया गांव बसाना भारत के लिए बेहद चिंता की बात है।

ब्रह्मपुत्र पर बाँध
चीन पहले से ही सीमावर्ती इलाकों में सक्रियता दिखाता रहा है लेकिन बीते साल बलवान घाटी में विवाद के बाद उसने पूर्वोत्तर इलाके में अपनी गतिविधियां काफी तेज कर दी हैं। अरुणाचल प्रदेश से सटे इलाके में ब्रह्मपुत्र नदी पर एक विशाल बांध बनाने का चीन का फैसला भारत के लिए चिंताजनक है। चीन पहले ही तिब्बत में 11 हजार 130 करोड़ रुपये की लागत से एक पनबिजली केंद्र बना चुका है। 2015 में बना यह चीन का सबसे बड़ा बांध है। भारत और बांग्लादेश, दोनों ही देश ब्रह्मपुत्र के पानी का इस्तेमाल करते हैं। भारत ने चीन को अपनी चिंताओं से साफ अवगत करा दिया है। हालांकि चीन ने इन चिंताओं को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि वह दोनों देशों के हितों का ध्यान रखेगा।

बड़ा रेलवे प्रोजेक्ट
अब अपनी नई रणनीति के तहत चीन इस इलाके में एक नई रेलवे परियोजना पूरा करने की तैयारी में है। इससे अरुणाचल प्रदेश सीमा तक उसकी पहुंच काफी आसान हो जाएगी। चीन ने हाल में ही सामरिक रूप से महत्वपूर्ण एक रेलवे ब्रिज का काम पूरा कर लिया है। अरुणाचल में सियांग कही जाने वाली ब्रह्मपुत्र नदी पर बना 525 मीटर लंबा यह पुल नियंत्रण रेखा से महज 30 किलोमीटर दूर है। यह पुल दरअसल 435 किलोमीटर लंबी ल्हासा-निंग्ची (लिंझी) रेलवे परियोजना का हिस्सा है। सामरिक और रणनीतिक रूप से सिचुआन-तिब्बत रेलवे लाइन का निर्माण काफी अहम है। यह रेलवे लाइन दक्षिण-पश्चिमी प्रांत सिचुआन की राजधानी चेंग्डू से शुरू होकर तिब्बत के लिंझी तक जाएगी। लिंझी अरुणाचल प्रदेश की सीमा से एकदम करीब है।

इस परियोजना के पूरा होने के बाद चेंग्डू और ल्हासा के बीच की दूरी तय करने में मौजूदा 48 घंटे की जगह महज 13 घंटे का ही समय लगेगा। इस परियोजना पर 47.8 अरब अमेरिकी डॉलर खर्च होने का अनुमान है। यह तिब्बत इलाके में चीन की दूसरी अहम रेलवे परियोजना है। इसकी तुलना में भारत का अरुणाचल में इंफ्रास्ट्रक्चर उतना मजबूत नहीं है। भारतीय रेलवे का नेटवर्क अरुणाचल में बहुत सीमित है।

भारत को भी जवाबी कार्रवाई करनी होगी
एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत को अपने सीमावर्ती इलाकों में रेल-सड़क नेटवर्क को बहुत मजबूत किये जाने की जरूरत है। चीन अपनी इसी मजबूती का बेजा इस्तेमाल हमारी सीमा में अतिक्रमण करने के लिए कर रहा है। भारत पर चौतरफा दबाव बनाने की रणनीति के तहत चीन की ओर से अरुणाचल प्रदेश से सटे इलाकों में लंबे अरसे से निर्माण कार्य किया जा रहा है। हाल में उसने अरुणाचल के पांच युवकों का भी अपहरण कर लिया था। दुर्गम इलाके का फायदा हटा कर चीनी गतिविधयां लगातार तेज हो रही हैं। इसलिए भारत को भी जवाबी रणनीति बना कर ठोस कार्रवाई करनी होगी।


राजस्थान रॉयल्स ने स्टीव स्मिथ को किया रिलीज, संजू सैमसन होंगे टीम के नए कप्तान       केदार जाधव समेत ये खिलाड़ी हुए बाहर, सुरेश रैना को IPL 2021 के लिए CSK ने किया रिटेन       भुवनेश्वर कुमार समेत सभी बड़े खिलाड़ियों को सनराइजर्स ने किया रिटेन       57 खिलाड़ी हुए रिलीज, देखिए पूरी लिस्ट और नीलामी में कितने पैसे लेकर उतरेंगी टीमें       लसिथ मलिंगा ने IPL से लिया संन्यास, मुंबई इंडियंस के रिटेन खिलाड़ियों में नहीं नाम       कोरोना की दूसरी लहर ने पुरुषों पर डाला ज्यादा प्रभाव, अध्‍ययन में किया गया दावा       कमला हैरिस ने US के उपराष्‍ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करके रचा इतिहास       अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बनें जो बाइडेन, तस्वीरों में देखें शपथ ग्रहण समारोह       अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बने बाइडन, कहा- मैं सभी का राष्ट्रपति, जिन्होंने वोट नहीं दिया, उनका भी, मोदी ने दी बधाई       इनॉगरेेेेेशन सेरेमनी में लेडी गागा ने गाया राष्ट्रीय गान       लौटने का वादा कर ट्रंप ने व्हाइट हाउस छोड़ा, कहा...       मल्लिका शेरावत ने फिर बटोरी सुर्खियां, शेयर की ग्लैमरस तस्वीरें       सुरभि चंदना ने स्विमिंग पूल में की ऐसी मस्ती, वीडियो देख फैंस हुए मदहोश       किंग खान की लाडली बेटी सुहाना ने कुछ इस अंदाज में किया नए साल का स्वागत       अनन्या पांडे का दिखा दिलकश अंदाज, देखें वायरल तस्वीरें       बेहद कातिलाना नजर आई मल्ल‍िका शेरावत, तस्वीरें देख फैंस हुई मदहोश       काजल अग्रवाल ने हिमाचल की वादियों में कुछ इस अंदाज में नए साल की शुरुआत       इंस्टाग्राम पर देसी अवतार में अपनी तस्वीरें अपलोड कर इस एक्ट्रेस ने मचाया तहलका       नोरा फतेही के इस लेटेस्ट वीडियो ने सोशल मीडिया पर लगाई आग       बैकलेस मरून ड्रेस में उर्वशी रौतेला ने सोशल मीडिया पर ढाया कहर, तस्वीरों में देखें कातिलाना अंदाज